नई दिल्ली : भारत और रूस के बीच इस साल के अंत में एक बड़ा सैन्य अभ्यास होगा. जिसमें आर्मी, एयरफोर्स और नेवी की भागीदारी के साथ त्रिकोणीय युद्ध अभ्यास होने की भी संभावना है. ये युद्ध अभ्यास इस साल के अंत तक रूस में होगा. जिसमें सेना की तीनों श्रेणियां थलसेना, नौसेना और वायुसेना शामिल होंगी. इसके अलावा भारतीय थल और नौसेना रूस के साथ अलग से सैन्य अभ्‍यास ‘इंद्र’ करेंगी. दोनों देशों के बीच ये ऐसा पहला युद्ध अभ्यास होगा.
 
इससे पहले भारतीय वायु सेना ने 2014 में रूसी वायु सेना के साथ एक अभ्यास ‘एविया इंद्र’ में भाग लिया था. सूत्रों ने बताया कि लेकिन इस साल रूस में एक त्रिस्तरीय अभ्‍यास होने की संभावना है. सूत्रों के अनुसार भारत और रूस के बीच सेन्य अभ्यास के मुद्दे को लेकर तैयारी की बैठक हो चुकी है. इसके अलावा अभी दो और कॉन्फ्रेंस भी आयोजित किए जाएंगे. 
 
रक्षा मंत्रालय के सूत्र के अनुसार अक्टूबर नवंबर में रूस में होने सैन्य अभ्यास में आर्मी, नेवी और एयरफोर्स यानी तीनों सेनाओं के जवान और हथियार शामिल होंगे. यह पहली बार होगा जब भारत की तीनों सेनाएं एक साथ किसी देश का साथ अभ्यास करेंगी. संयोग से भारत-रूस के बीच युद्ध अभ्यास से पहले रक्षा मंत्री अरुण जेटली अतंरराष्ट्रीय सुरक्षा पर आयोजित होने वाली मॉस्को कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लेने के लिए 25-26 अप्रैल को रूस में रहेंगे.