नई दिल्ली.  चर्चित लेखक चेतन भगत ने सोशल मीडिया पर सक्रिय बीजेपी ‘भक्तों’ को सेक्सुअली फ्रस्ट्रेटेड करार दिया है. चेतन ने बातचीत के तरीके, अंग्रेजी के ज्ञान, महिलाओं को आकर्षित करने की क्षमता को लेकर भी ‘भक्तों’ की  खिल्ली उड़ाई है. सोशल मीडिया में बीजेपी का पक्ष लेने वालों को भक्त कहने का चलन है. 

अंग्रेजी अखबार द टाइम्स ऑफ इंडिया में प्रकाशित लेख में चेतन ने खुले तौर पर सोशल मीडिया पर बीजेपी और मोदी का बचाव करने और बचाव के दौरान दूसरों को हद से बाहर जाकर अपमानित करने वाले भक्तों पर तीखे हमले किए हैं.

अखबार के संपादकीय पन्ने के प्रमुख लेख के तौर पर छपे इस आर्टिकल का हेडिंग Anatomy of an internet troll है जिससे समझा जा सकता है कि बीजेपी और नरेंद्र मोदी के खिलाफ लिखने वालों को अपमानित करने और गाली देने में दक्ष लोगों पर ही यह लेख लिखा गया है.

चेतन ने भक्तों के गुण पर लिखा है कि “एक तो ज्यादातर भक्त पुरुष होते हैं. दूसरा बातचीत के सलीके में वो कमजोर होते हैं. खास तौर पर अंग्रेजी में जिसकी वजह से उनमें हीन भावना आ जाती है.”

चेतन ने लिखा है, “भक्त महिलाओं से बात करने में अच्छे नहीं होते इसलिए उनको पता नहीं होता कि महिलाओं से कैसे पेश आना चाहिए या कैसे आकर्षित करना चाहिए. उनमें महिलाओं की चाहत होती है लेकिन वो हासिल नहीं कर पाते. अगर दूसरे शब्दों में कहूं तो महिला को किसी भी तरह आकर्षित करने में नाकाम ये लोग सेक्सुअली फ्रस्ट्रेटेड होते हैं.”

चेतन ने बॉलीवुड अभिनेत्री श्रुति सेठ का जिक्र करते हुए लिखा है कि भक्तों ने श्रुति को भी नहीं छोड़ा. उस पर सिर्फ इसलिए हमला किया गया क्योंकि उसने नरेंद्र मोदी के सेल्फी विद डॉउटर पर सवाल उठाए थे.

चेतन भगत का पूरा लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें