नई दिल्ली: शिवसेना सांसद रविंद्र गायकवाड़ पर लगे ट्रैवल बैन को एयर इंडिया ने तत्काल प्रभाव से हटा लिया है. इसके साथ ही अब गायकवाड़ पर अन्य एयरलाइंस की तरह से लगे बैन का हटना तय है. ट्रैवल बैन हटने के बाद अब शिवसेना सांसद एयर इंडिया की फ्लाइट से यात्रा कर सकेंगे. 
 
 
गुरुवार को गायकवाड़ ने लोकसभा में घटना को लेकर खेद जताया था. साथ ही उन्होंने नागरिक उड्डयन मंत्री अशोक गजपति राजू को चिट्ठी लिखकर भी खेद प्रकट किया था. हालांकि, इस घटना के लिए उन्होंने गुरूवार को संसद में एयर इंडिया से माफी मांगने से साफ इनकार कर दिया था.
 
 
गायकवाड़ ने संसद में बोलते हुए उन पर लगे हवाइ यात्रा पर बैन को हटाए जाने की मांग की. उन्होंने यह भी कहा कि वे संसद से माफी मांग सकते हैं लेकिन एयरलाइन के स्टॉफ से माफी नहीं मांगेंगे. उधर, गायकवाड़ मुद्दे पर शिवसेना आक्रामक नजर आ रही है. शिवसेना ने एनडीए की बैठक का बहिष्‍कार करने की धमकी भी दी थी.
 
 
एयर इंडिया के प्रवक्ता जीपी राव ने बताया कि गायकवाड़ ने अपनी चिट्ठी में ‘माफी’ शब्द का इस्तेमाल किया है. चूंकि एयर इंडिया मंत्रालय के अधीन ही आता है, इसलिए इसका साफ मतलब है कि शिवसेना सांसद ने इयर इंडिया के कर्मचारियों से भी माफी मांगी है. इसलिए नागरिक उड्डयन मंत्रालय के कहने पर ही बैन हटाया गया है. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि एयर इंडिया अपने कर्मचारियों की सुरक्षा और हितों के लिए प्रतिबद्ध है.
 
 
क्या था मामला ?
असल में ये पूरा विवाद सीट को लेकर शुरु हुआ था. सांसद रवींद्र गायकवाड़ पुणे से दिल्ली आ रहे थे. उनके पास बिजनेस क्लास का ओपन टिकट था जिस पर वो किसी भी दिन सफर कर सकते थे, लेकिन उन्होंने सुबह 7 बजकर 35 मिनट की फ्लाइट से जाने की जिद की. उस विमान में सारी सीटें इकोनॉमी क्लास की थीं. इस बात को सुनकर सांसद बिफर गए. फ्लाइट दिल्ली पहुंची तो उन्होंने नीचे उतरने से इनकार कर दिया. ट्रैवल बैन की वजह से गायकवाड़ को सड़क मार्ग या फिर रेलमार्ग से यात्रा करनी पड़ रही थी.