माउंट आबू: राजस्थान में सिरोही के आबूरोड में ब्रह्मकुमारी संस्था की तरफ से एक 80वें अंतरराष्ट्रीय महासम्मेलन का आयोजन किया गया है. इस सम्मेलन में बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी समेत कई वीआईपी लोगों ने शिरकत की. पीएम नरेंद्र मोदी ने भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस कार्यक्रम को संबोधित किया.
 
ये भी पढ़ें:
 
आडवाणी ने रविवार को कार्यक्रम में बोलते हुए कहा कि वह पाकिस्तान के कराची में पैदा हुआ, लेकिन उन्होंने राष्ट्रीय स्वयंक सेवक संघ (RSS) से शिक्षा हासिल की और यहीं से अनुशासन भी सीखा. मैंने संघ से एक चीज सीखी है वो है कि हमें कभी गलत कामों को बढ़ावा नहीं देना चाहिए. हमें संघ में जाकर पता चला की इसके माध्यम से देश के प्रति प्रेम और समर्पण कैसे सीखा जा सकता है. 
 
ये भी पढ़ें:
 
उन्होंने कहा कि ब्रह्मकुमारी संस्था नि:स्वार्थ भाव से लोगों की सेवा करती है. मैं चाहूंगा कि इस संगठन के द्वारा भी जो लोग देश सेवा करना चाहते हैं. वे भी इस प्रकार की ईमानदारी, प्रमाणिकता, पूजनीयता, शुद्धता और सात्विकता अपने दिल में धारण करके उसके हिसाब से आचरण करना चाहिए. 
 
ये भी पढ़ें:
 
माउंट आबू में आयोजित ब्रह्मकुमारी संस्था का ये कार्यक्रम में सादगी और भव्यता भी दिखी. इस महासम्मेलन में आडवाणी के अलावा, राज्यसभा के उपसभापति पीजे कुरियन और फिल्म अभिनेत्री रवीना टंडन के साथ कई मशहूर हस्तियां मौजूद रहीं. इस कार्यक्रम में कई और जाने-माने लोगों ने शिरकत की. जिसमें इंडिया न्यूज़ के एडिटर इन चीफ दीपक चौरसिया भी शामिल थे. 
 
ये भी पढ़ें:
 
इस दौरान, ब्रह्मकुमारी संस्था की मुख्य प्रशासक दादी जानकी, अतिरिक्त प्रशासक दादी गुलजार और कार्यक्रम के संयोजक मृत्युंजय भाई भी मौजूद रहे. ये कार्यक्रम 29 मार्च तक चलेगा. ब्रह्मा कुमारीयों के मिशन को 1937 में स्थापित किया गया था और इसका मुख्यालय माउंट आबू में स्थित है. देश-विदेश में इसके 8,500 से भी ज्यादा मेडिटेशन सेंटर हैं.