चेन्नई : रेल मंत्री सुरेश प्रभु अक्सर ट्वीटर अकाउंट के जरिए लोगों कि मदद करते रहते हैं. इस बार भी उन्होंने एक बच्चे की मदद की. चेन्नई का रहने वाला 14 साल का मास्टर टी कन्नन हीमोफिलिया नामक घातक रोग से पीड़ित है. सुरेश प्रभु ने इस बच्चे की एक इच्छा पूरी करके उसे खुशी दे दी. 
 
दरअसल, इसी साल 9 मार्च को ‘Make a Wish’ नामक संस्था ने मास्टर टी कन्नन की इच्छा को लेकर मंत्री सुरेश प्रभु को पत्र लिखकर अनुरोध किया था. संस्था ने कहा था कि इस वक्त कन्नन जिन्दगी और मौत के बीच जंग लड़ रहा है. वह एक दिन के लिए ट्रेन का ड्राईवर बनना चाहता है.
 
 
सुरेश प्रभु ने संस्था की इस अपील और मास्टर कन्नन की इच्छा को करीब दो हफ्तों के अंदर ही पूरा कर दिया. दक्षिणी रेलवे के रोयापूरम रेलवे स्टेशन पर कन्नन को एक दिन के लिए लोको पायलट यानि ट्रेन का ड्राईवर बनाया गया. 
 
कन्नन एक दिन लोको पायलट के तौर पर जी कर काफी खुश हुआ. साथ ही, प्रभु ने उसके जल्द ठीक होने की कामना भी की है.