चेन्नई : तमिलनाडु की मुख्यमंत्री बनने का सपना देख रहीं अन्नाद्रमुक महासचिव वीके शशिकला को अब बैंगलुरु सेंट्रल जेल के कैदी नंबर 9435 से जाना जाएगा. जेल में शशिकला मोमबत्ती और अगरबत्ती बनाएंगी जिसके एवज में उन्हें रोज़ के 50 रुपये दिए जाएंगे.
 
आय से अधिक संपत्ति मामले में दोषी करार हुईं शशिकला को बैंगलुरु सेंट्रल जेल के बैरक नंबर दो में आम कैदियों की तरह ही रखा गया, हालांकि शशिकला ने सुप्रीम कोर्ट से पलंग, टीवी, हथकड़ी नहीं लगाने, नौकर, वेस्टर्न टॉयलेट, 24 घंटे मिनरल वाटर और 24 घंटे गर्म पानी की मांग की थी जिसे कोर्ट ने ठुकरा दिया.
 
 
शशिकला ने सुप्रीम कोर्ट से आत्मसमर्पण करने के लिए कुछ वक्त भी मांगी थी जिससे कोर्ट ने साफ इनकार कर दिया. जिसके बाद शशिकला ने आत्मसमर्पण कर दिया. आत्मसमर्पण से पहले शशिकला ने पार्टी ने निकाले गए टीटीवी दिनाकरन और एस. वेंकटेश को पार्टी में शामिल कर लिया.
 
 
बता दें कि शशिकला को 4 साल की कैद की सजा और उनपर 10 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया है. हालांकि उन्हें जेल में अब तीन महीने 11 दिन का वक्त ही बिताना है क्योंकि सितंबर 2014 में वे 21 दिन जेल में बिता चुकी हैं.