नई दिल्ली. देश की राजधानी दिल्ली में आज से सरकारी अस्पतालों में रेजिडेंट्स डॉक्टर्स की हड़ताल होगी. केंद्र सरकार, नगर निगम और दिल्ली सरकार के सभी अस्पतालों के करीब 15 हजार रेजिडेंट्स डॉक्टर्स हड़ताल पर होंगे और राजधानी की हेल्थ सेवाएं चरमरा सकती है.

डॉक्टर्स का कहना है कि दिल्ली के अस्पतालों में मरीज, तीमारदार और डॉक्टर सभी सुविधाओं के अभाव से जूझ रहे हैं इन्हीं सब मांगों को लेकर हड़ताल की जा रही है. उनका कहना है कि आधे अस्पतालों में इलाज की मशीनें नहीं हैं. आधी दवाइयां नहीं हैं. पीने का पानी नहीं है. सफाई नहीं है.इन सबके के लिए अस्पतालों में डॉक्टरों से झगड़ा होता है और सिक्योरिटी नहीं होने से डॉक्टरों से मारपीट होती है.

डॉक्टर्स का कहना है कि हड़ताल अनिश्चितकालीन है और हमारा मकसद ध्यान दिलाना है, किसी को तकलीफ देना नहीं है. डॉक्टरों की एसोशिएशन का कहना है कि पिछले पांच महीने से लिखित में मांगों का ज्ञापन दे रहे हैं. आश्वासन दिया गया था कि मांगें पूरी होंगी. अब तक इसके लिए मीटिंग नहीं हुई. हमने पहले ही आगाह किया था यदि कुछ भी नहीं किया तो हम 22 जून से हड़ताल पर जाएंगे.

IANS