नई दिल्ली. रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल को कांग्रेस सदस्यों के नेतृत्व वाली संसदीय समिति ने तलब किया है. संसद की लोकलेखा समिति ने नोटबंदी के बाद देश की स्थिति की समीक्षा के लिए उन्हें बुलाया है.
 
लोकलेखा समिति (PAC) इसपर भी चर्चा करेगी की इससे अर्थव्यवस्था पर क्या प्रभाव पड़ेगा. इस समिति के अध्यक्ष कांग्रेस के वरिष्ठ नेता केवी थॉमस हैं. समिति ने वित्त सचिव शशिकांत दास को भी तलब किया है. 
 
समिति ने RBI गवर्नर को बुलाने का निर्णय सबकी सहमति से लिया है. बता दें कि पीएम मोदी ने आठ नवंबर को 500 और 1000 रुपए के नोटों का चलन बंद कर दिया था. विपक्ष तभी से इसका विरोध कर रहा है और इसी के वजह से संसद की कार्यवाही लगातार बाधित रही है.
 
अनुमानों के मुताबिक नोटबंदी से देश की जी़डीपी कम रहगी और इस फैसले से इसमें 0.5 से 2 फीसदी तक गिरावट हो सकती है. पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने लोकसभा भी लोकसभा में कहा था कि नोटबंदी बहुत बड़ी विफलता है और इससे जीडीपी में दो प्रतिशत तक की कमी आ सकती है. बैठक की तारीख अभी तय नहीं की गई है.  आरबीआई गवर्नर के उपलब्धता के हिसाब से बैठक की तारीख तय की जाएगी.