Home » National » चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर ने कहा- जजों की नियुक्ति प्रक्रिया को हाईजैक नहीं किया जा सकता

चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर ने कहा- जजों की नियुक्ति प्रक्रिया को हाईजैक नहीं किया जा सकता

चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर ने कहा- जजों की नियुक्ति प्रक्रिया को हाईजैक नहीं किया जा सकता

By InKhabar Team | Updated: Friday, December 2, 2016 - 09:40
TS Thakur, Chief Justice, NJAC, Judiciary, CJI, Supreme Court, Judicial Appointment

Chief Justice TS thakur said Judges appointment cannot be hijcked, they cannot be appointed by bureaucrats

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
नई दिल्ली. मुख्य न्यायधीश टीएस ठाकुर ने कहा है कि जजों की नियुक्ति प्रक्रिया को हाईजैक नहीं किया जा सकता. उन्होनें न्यायपालिका की स्वतंत्रता पर जोर दिया है और कहा है कि निरंकुश शासन के दौरान उसकी अपनी एक भुमिका होती है.उन्होने कहा है कि जजों को नौकरशाह और कार्यपालिका नियुक्त नहीं कर सकते. चीफ जस्टिस ने कहा कि न्यायपालिका की स्वतंत्रता बहुत जरुरी है.
 
बता दें कि  न्यायपालिका और सरकार के बीच खींचतान कई बार सामने आ चुकी है. कई मौकों पर दोनो के बीच कई मुद्धों को लेकर तनाव रहा है  है. न्यायपालिका और कार्यपालिका दोनो एक दूसरे को लक्षमण रेखा में रहने की सलाह दे चुके हैं. जजों की नियुक्ति को लेकर दोनो के बीच तनाव के मद्धदेनजर चीफ जस्टिस की यह टिप्पणी बहुत महत्वपूर्ण है.
 
 चीफ जस्टिस कल 37वें भीमसेन सच्चर स्मृति व्याख्यान के दौरान स्वतंत्र न्यायपालिका का गढ़ विषय पर बोल रहे थे. उन्होनें कहा कि न्यायपालिका अगर स्वतंत्र नहीं होगी तो उसे संविधन से मिली स्वतंत्रता का कोई मतलब नहीं रहा जाएगा. न्यायपालिका की स्वतंत्रता जजों की सुविधा के लिए नहीं बल्कि लोगों को न्याय दिलाने के लिए जरुरी है . उन्होनें कहा कि न्यायपालिका अपने अंदरुनी मसले खुद ही तय करने के लिए स्वतंत्र होनी चाहिए.
 
जीफ जस्टिस ने कहा कि अदालत के अंदर न्यायधीशों को मामले सौंपने का फैसला न्यायपालिका के पास होना चाहिए. उन्होने  कहा कि कौन से मामले को कौन से जज सुनेंगे यह न्यायपालिका तय करेगी. कौन से मामले सुने जाएंगे और कौन से नहीं यह भी न्यायपालिका को ही तय करना है, कोई बाहरी इसे तय नहीं कर सकता.  
 
उन्होने कहा कि न्यायपालिका के सामने चुनौतियां बहुत ज्यादा हैं. न्यायपालिका उन चुनौतियों का हल निकाले ताकि लोगों में उसके प्रति विश्वास और ज्याद मजबूत हो. स्वतंत्र न्यायपालिका के बिना लोकतंत्र मजबूत नहीं हो सकता, लोकतंत्र में स्वतंत्र न्यायपालिका का होना बहुत जरुरी है. स्वतंत्र न्यायपालिका से ही लोकतंत्र सफल होगा.
 
उन्होने कहा कि NJAC (नेशनल ज्यूडिशियल एप्वाइंटमेंट कमेटी) न्यायपालिका की स्वतंत्रता को प्रभावित करने का एक प्रयास है. इससे न्यायपालिका की स्वतंत्रता प्रभावित हो सकती थी. शक्तिशाली संसद न्यायिक नियुक्तियों में शामिल होने की कोशिश करती है. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग को पिछले साल खारिज कर दिया था. उन्होने कहा कि कई ऐसे मामले सामने आए हैं जब कार्यपालिका ने अपनी सीमाएं लांघी है. बता दें की चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर जनवरी 2017 में रिटायर हो रहे हैं.
 
 
 
 
First Published | Friday, December 2, 2016 - 09:37
For Hindi News Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
Web Title: Chief Justice TS thakur said Judges appointment cannot be hijcked, they cannot be appointed by bureaucrats
(Latest News in Hindi from inKhabar)
Disclaimer: India News Channel Ka India Tv Se Koi Sambandh Nahi Hai

Add new comment

CAPTCHA
This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

फोटो गैलरी

  • मुंबई में निकलोडियन "किड्स च्वाइस पुरस्कार 2016" के दौरान अभिनेत्री दीपिका पादुकोण
  • मुंबई में अभिनेत्री मलाइका अरोड़ा और अमृता अरोड़ा, फैशन डिजाइनर मनीष मल्होत्रा ​​के जन्मदिन समारोह के दौरान
  • मथुरा के बरसाना में बच्चों के साथ अभिनेता अक्षय कुमार
  • मुंबई में "टाइम्स लिटफेस्ट 2016" के दौरान अभिनेत्री कंगना रानौत
  • कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया, बेंगलुरु में बाबा साहेब डॉ भीमराव अंबेडकर को उनकी पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि देते हुए
  • नई दिल्ली में योग गुरू बाबा रामदेव, खेल और युवा मामलों के राज्य मंत्री विजय गोयल से मुलाकात के दौरान
  • पटना में बिहार के राज्यपाल राम नाथ कोबिंद और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, बाबा साहेब डॉ भीमराव अम्बेडकर को उनकी पुण्यतिथि के अवसर पर श्रधांजलि देते हुए
  • नई दिल्ली में रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, वियतनाम के रक्षा मंत्री जनरल नगो गवां लिंच का स्वागत करते हुए
  • चेन्नई में AIDMK नेता जे. जयललिता को श्रधांजलि देने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
  • चेन्नई में तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता के पार्थिव शरीर को, एक एम्बुलेंस द्वारा उसके निवास पोएस गार्डन ले जाया गया