नई दिल्ली : कालेधन को रोकने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरफ से लिए गए नोटबंदी के फैसले का आज 24वां दिन है, फिर भी देश के कई लोगों के पास अभी तक नए 500 और 2000 के नोट नहीं पहुंचे हैं.
 
जी हां, बैंकों और एटीएम के सामने लंबी-लंबी कतारों में खड़े होने के बाद भी कई लोग ऐसे हैं जो अभी तक अपने ही बैंक अकाउंट से पैसे निकाल नहीं सके हैं. बैंकों में कैश आता भी है तो महज दो घंटों में ही खत्म हो जाता है. 
 
वहीं आज दिसंबर की दो तारीख है. इस महीने की सैलरी भी लोगों के अकाउंट में आ गई है, जिस वजह से लोग लंबी-लंबी कतारों में बैंक और एटीएम के सामने खड़े हैं. पर्याप्त मात्रा में बैंकों में पैसे न होने की वजह से लोगों को बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है.
 
12 बजे ही खत्म हो रहा है कैश
लोग सुबह 6 बजे से ही बैंकों के सामने लाइन में खड़े हो रहे हैं इस आशा से कि आज तो पैसे निकल ही जाएंगे, लेकिन कई बैंकों में 12 बजे ही कैश खत्म हो जा रहा है.
 
कई बैंकों में कल नहीं आया कैश
केवल कैश जल्दी खत्म होना ही एक मात्र समस्या नहीं है. एक और बड़ी समस्या यह है कि बहुत से बैंकों में कैश पहुंच भी नहीं पा रहा है. कल यानी गुरुवार के दिन कुछ बैंक ऐसे भी थे जहां कैश पहुंचा ही नहीं. लोग आए कतार में खड़े हुए लेकिन केवल निराशा ही हाथ लगी.
 
ATM भी पड़े हैं खाली
केवल बैंक ही नहीं पैसे निकालने का सबसे बड़ा जरिया एटीएम भी खाली पड़ा है. देश की राजधानी दिल्ली में तक इतना बुरा हाल है कि सबसे व्यस्थ इलाका कनॉट प्लेस में भी कई एटीएम खाली पड़े हैं. कल यानी गुरुवार के दिन दोपहर तक एटीएम में पैसे नहीं आए थे. खबर है कि पैसे रात को 10 बजे एटीएम में डाले जा रहे हैं, जो रात में ही खत्म हो जाते हैं. यानी अगर किसी को कैश निकालना है तो उसे रात भर एटीएम के सामने लाइन में खड़े रहना पड़ेगा.
 
राष्ट्रीय राजधानी में बुरे हालात
देश की राजधानी दिल्ली में तक यह हाल है कि बैंकों में 12 बजे कैश खत्म हो जाता है तो किसी बैंक में कैश पहुंचता ही नहीं तो एटीएम भी खाली पड़े हैं. इस मामले में सोचने वाली बात यह है कि अगर राष्ट्रीय राजधानी में यह हाल है तो देश के बाकी हिस्सों में क्या हालात होंगे.
 
रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने लोगों को राहत देते हुए बैंकों से 24 हजार से ज्यादा निकालने की सुविधा तो दे दी है, लेकिन पर्याप्त मात्रा में कैश अभी भी बैंकों और एटीएम में उपलब्ध नहीं हो सका है. वहीं वित्त मंत्री अरुण जेटली ने नोटबंदी के मामले पर कहा है कि केवल 50 दिनों की यानी 30 दिसंबर तक की समस्या है उसके बाद हालात सामान्य हो जाएंगे.
 
बता दें कि आठ नवंबर की रात से पुराने 500 और 1000 के नोटों के इस्तेमाल पर बैन लगा दिया गया था, जिसके बाद कुछ जरूरी जगहों पर इन नोटों के इस्तेमाल की परमिशन दी गई थी. नोटबंदी के बाद से ही लोगों के सामने नगदी की समस्या आ रही है.