नई दिल्ली. केंद्र सरकार बैंकों में नगदी पहुंचाने के लिए सेना का भी सहारा ले सकती है. सूत्रों के मुताबिक इस बारे में वायुसेना प्रमुख अरूप साहा प्रधानमंत्री मोदी से भी मुलाकात कर चुके है.
 
उन्होंने कहा है कि सरकार जितने भी एयरक्राफ्ट चाहेगी सेना देने के लिए तैयार है ताकि देश के दूर-दराज इलाको में करेंसी पहुंचाई जा सके.
 
गौरतलब है कि 8 नवंबर की रात अचानक से 500 और 1000 के नोट बंद किए जाने के फैसले से पूरे देश में नगदी की समस्या हो गई है.
लोगों के पास जरूरी सामान खरीदने के लिए भी पैस नहीं बचे हैं. करीब 22 दिन से ज्यादा का समय हो गया लेकिन बैंकों और एटीएम से कतारें कम होने का नाम भी नहीं ले रही हैं.
 
अब सरकार की कोशिश है कि कम से कम दिसंबर के पहले हफ्ते में बैकों तक ज्यादा से ज्यादा कैश पहुंचा दिया ताकि लोगों को सैलरी निकालने में दिक्कत न हो.
 
इसके साथ ही कई नियमों में भी बदलाव किया गया है जिसके तहत जिनकी सैलरी 24 हजार रुपए से कम है वह पूरी सैलरी एक बार में निकाल सकते हैं. वहीं आरबीआई की ओर से यह भी कहा गया कि सरकारी कर्मचारियों को सैलरी का कुछ हिस्सा कैश में भी दिया जाए.