नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली में अब कोने-कोने पर नजर रखी जा सकेगी. दिल्ली सरकार ने महिला सुरक्षा के लिहाज से संवेदनशील और अति संवेदनशील प्वाइंटों पर 80 हजार कैमरे लगवाने की तैयारी शुरु कर दी है. इन प्वाइंटों को ढूंढने का सरकार ने सर्वे पूरा करा लिया है.
 
इसमें विभिन्न संस्थाओं, रेजीडेंट वेलफेयर एसोसिएशन व मार्केट एसोसिएशन और विधायकों की मदद ली गई है. इसके लिए लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) ने ब्ल्यू प्रिंट भी तैयार कर लिया है. सरकार इसके लिए 140 करोड़ रुपए खर्च करेगी. 
 
सरकार इस योजना के तहत को मार्च तक कैमरे लगाने का काम शुरू कर देगी. महिलाओं की सुरक्षा को देखते हुए इसे बड़ा कदम बताया जा रहा है. सरकार ने सीसीटीवी कैमरे लगाने को लेकर हुई कई बैठकों के बाद कई अहम फैसले लिए.
 
स्पेशल कैमरे लगाए जाएंगे
 
  • दिल्ली में बिना तार वाले कैमरे लगाए जाएंगे.
  • कई कंपनियों के अलग-अलग प्रजेंटेशन के बाद यह फैसला लिया गया कि सिस्टम लगाकर कैमरों की 24 घंटे मॉनिटरिंग करने के बजाय यह व्यवस्था की जाए कि कैमरे 24 घंटे रिकार्डिग करें और अपना डाटा भी सेव करे.
  • कैमरे पर 24 घंटे निगरानी रखी जाएगी कि कैमरे चल रहे हैं या नहीं. इस निगरानी कार्य के लिए स्थानीय आरडब्ल्यू और मार्केट एसोसिएशन को इस कार्य से जोड़ा जाएगा.
  • दिल्ली सरकार ने कैमरा लगाने के लिए आ रही कंपनियों से कहा है कि कैमरों में इस तरह की तकनीक का इस्तेमाल किया जाए जिससे कैमरे के बंद होने पर पता चल सके कि कैमरा खराब है.