नई दिल्ली: नोटबंदी के 22 दिन बीत जाने के बाद भी देशभर के सभी एटीएम और बैंकों में लोगो की लंबी-लंबी लाइने देखने को मिल रही है. बुधवार देर रात तीन बजे दिल्ली के कनॉट प्लेस में स्टेट बैंक के एटीएम के बाहर लोगो की भारी भीड़ देखने को मिली. इस परेशानी के बावजूद जनता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के फैसले का समर्थन किया है.
 
बैकों और एटीएम के बाहर खड़े लोगों ने कहा कि काले धन पर अंकुश लगाने के लोए नोटबंदी का फैसला बहुत जरूरी था और वो पीएम मोदी के  इस फैसले के साथ हैं. हालांकि बैंको और एटीएम के बाहर लोगों की भीड़ कम जरूर हुई है लेकिन अब भी आम लोगो को बैंको में पैसे जमा करने में या फिर एटीएम से पैसा निकालने में खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.
 
बैंक अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार हर रोज तकरीबन करीब 30 करोड़ रुपए की मांग आ रही है, जबकि केवल जिला इलाकों में महज एक करोड़ ही पहुंच रहे हैं. इससे लोगों को खासी दिक्कत आ रही है. हालांकि अब बिजली और शादियों के लिए पैसे की मांग अधिक नहीं रही है, लेकिन लोगों को रोजमर्रा के कामों के लिए कैश नहीं मिल रहा है.
 
भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने नकदी की दिक्कतों से निपटने के लिए कैशलेस की व्यवस्था करने जा रही है. इसको लेकर कई बैंक अधिकारियों से बातचीत भी हुई है. अब ऐसी व्यवस्था बनाई जाएगी, जिसके तहत लोगों को जिसे पैसे देने हैं, सीधे उसके खाते में ही ट्रांसफर कर दिए जाएं. इससे बैंक के बाहर कैश के लिए लगने वाली लाइन नहीं लगेगी. इसके लिए देश में अलग-अलग जगह पर काउंटर भी बनाए जाएंगे. इसकी ट्रेनिंग भी बुधवार से शुरू होगी.