नई दिल्ली: एक तरफ जहां हर कोई अपनी अपनी तरफ से नोटबंदी का आंकलन कर रहा है वहीं दूसरी तरफ विश्व की प्रमुख रेटिंग एजेंसी फिच ने भारत की मौजोदा वित्त वर्ष में जीडीपी ग्रोथ को घटा दिया है.
 
फिच ने भारत की जीडीपी ग्रोथ 6.9 फीसदी रहने का नया अनुमान व्यक्त किया है. बता दें कि इससे पहले जीडीपी के 7.4 फीसदी रहने का अनुमान व्यक्त किया गया था. गौरतलब है कि नोटबंदी पर फिच का कहना है कि आर्थिक गतिविधियों में इससे बेहद मामूली रुकवाट आएगी.
 
बता दें कि सरकार ने 8 नवंबर को नोटबंदी की घोषणा की थी और इसके बाद से 500 और 1000 रुपये के मौजूदा नोटों को चलन से बाहर कर दिया गया था. इस रेटिंग एजेंसी की माने तो जीडीपी के अनुमान में गिरावट आरबीआई द्वार बड़े नोटों को चलन से बाहर किये जाने के फैसले के चलते आर्थिक गतिविधियों पर पड़ने वाले असर के चलते दर्ज की गयी है.
 
इसके अलावा इस एजेंसी ने साल 2017-18 और 2018-19 के लिए भी अपने बढ़ोतरी अनुमान को सुधार कर 7.7 फीसदी और 8 फीसदी किया है.