नई दिल्ली: नोटबंदी को लेकर पूरे देश में चर्चा बनी हुई है. इसे लेकर नए-नए रिसर्च होते रहते हैं. नोटबंदी का यह विषय इतना ज्यादा गहराता जा रहा है कि इस पर अब एम्स के डॉक्टरों ने चर्चा करने का फैसला लिया है. दिल्ली में होने वाली इस पांच दिवसीय सम्मेलन में देश-विदेश के डॉक्टर भी चर्चा करेंगे. 
 
वो इस बात का जिक्र करेंगे कि क्या नोटबंदी का स्वास्थ्य पर असर पड़ सकता है? रिपोर्ट्स के अनुसार डॉक्टरों का कहना है कि नोटबंदी के प्रभाव के चलते आने वाले दिनों में लोगों की सेहत पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है. नकदी न होने की वजह से नींज पर असर पड़ सकता है और इससे डिप्रेशन का शिकार भी हो सकते हैं. इसके अलावा ब्लड प्रेशन और घबराहट जैसी बीमारी भी हो सकती है.  
 
 
डॉक्टरों का ये भी कहना है कि जब भी समाज में कोई बड़ी घटना या कोई बड़ा फैसला लिया जाता है तो उसका असर सीधे सेहत पर पड़ता है. 
 
इसके साथ ही डॉक्टर ने अमेरिका में डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनने पर भी वहां के लोग काफी परेशान है. इसका असर भी मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ सकता है. डॉक्टर ने ये भी बताया कि इसके पहले जम्मू-कश्मीर में बाढ़ आने पर वहां के लोगों के मानसिक सेहत पर काफी बुरा प्रभाव देखा गया था.
 
आपको बता दें कि देश में नोटबंदी के चलते कई मौते हो चुकी हैं. किसी ने खुदखुशी कर ली तो किसी की एटीएम के सामने घंटो लाइन में लगने से मौत की खबर सामने आई है.