नई दिल्ली. पूर्व इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) कमिश्नर ललित मोदी की मदद करने के आरोप पर घिरी विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से कांग्रेस ने इस्तीफा मांगा है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा है कि सुषमा स्वराज का ललित मोदी की मदद करना एक गंभीर मामला है. स्वराज ने देश और कानून के भगोड़े की मदद की है. सुरजेवाला ने कहा कि मोदी पर 700 करोड़ रुपए का मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप है और विदेश मंत्री ने उन्हें बचाने की कोशिश की है.

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से स्वराज को हटाने की अपील की है. कांग्रेस ने कहा कि लोकसभा में विपक्ष के नेता पद पर रहते हुए सुषमा ने अपने भतीजे के ब्रिटेन में एडमिशन के लिए ललित मोदी की मदद ली थी. कांग्रेस ने कहा है कि सुषमा स्वराज मामले में पीएम मोदी की भूमिका भी संदेह के दायरे में है.

सुषमा ने किया खुद का बचाव

सुषमा ने ललित मोदी से संपर्क की बात तो मानी है और कहा कि विदेश मंत्री बनने के बाद वह जुलाई 2014 में ललित मोदी के संपर्क में थीं. सुषमा ने ट्वीट किया है, ‘जुलाई 2014 में ललित मोदी ने फोन किया और कहा कि उनकी पत्नी कैंसर पर पीड़ित है और 4 अगस्त को पुतर्गाल में सर्जरी होनी है. ललित मोदी ने मुझसे कहा कि उन्हें कंसेंट पेपर पर दस्तखत करने के लिए हाजिर रहना है.’
 
सुषमा ने आगे लिखा है, ‘ललित ने मुझे बताया कि उन्होंने लंदन में ट्रैवल डॉक्युमेंट्स के लिए अप्लाई किया है और ब्रिटेन सरकार दस्तावेज देने के लिए तैयार है. मगर यूपीए सरकार के एक सर्कुलर की वजह से वे ऐसा नहीं कर सकते, क्योंकि इससे भारत-ब्रिटेन संबंधों पर असर पड़ेगा.’ सुषमा ने कहा कि मानवीय आधार पर उन्होंने ललित मोदी की मदद की है.