नई दिल्‍ली. स्तब्ध कर देने वाले आरोपों के तहत दिल्ली के पूर्व कानून मंत्री सोमनाथ भारती की पत्नी ने गुरुवार को उनपर गर्भवती होने के दौरान उनके पीछे कुत्ते छोड़ देने तथा उनका मानसिक एवं शारीरिक उत्पीड़न करने का आरोप लगाया. ‘आप’ विधायक भारती ने आरोपों को बेबुनियाद करार दिया.

अपने खिलाफ विरोध तेज होने पर भारती ने इस मुद्दे के बारे में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सामने अपना पक्ष रखा. दिल्ली महिला आयोग में दर्ज अपनी शिकायत में भारती की पत्नी लिपिका ने यह भी आरोप लगाया कि जब वह तीसरी बार गर्भवती हुईं तब उन्होंने उन्हें गर्भपात के लिए मजबूर किया. लगातार उत्पीड़न से आजिज आकर उन्होंने एक बार अपनी कलाई काट लेने की कोशिश की थी.

आयोग की अध्यक्ष बरखा सिंह ने कहा, ‘अपनी शिकायत में उन्होंने उल्लेख किया है कि जब उनके गर्भ का सातवां महीना चल रहा था तब वह उनके पीछे कुत्ते छोड़ देते थे. उन्होंने कहा कि उन्होंने उन्हें एक बार गर्भपात के लिए मजबूर किया और उसने अपनी कलाई काट लेने की कोशिश की.’ लिपिका ने आयोग को सौंपी 26 पृष्ठों की शिकायत में भारती से अपनी जान को निरंतर खतरा होने की बात कही है. इस दंपति के दो बच्चे हैं। लिपिका बच्चों के साथ द्वारका में अलग रह रही हैं.

आप की 49 दिनों की पिछली सरकार के दौरान कानून मंत्री रहे भारती ने इन आरोपों को बिल्कुल बेबुनियाद करार दिया. लिपिका द्वारा भारती के खिलाफ घरेलू हिंसा, मानसिक उत्पीड़न, दहेज एवं फर्जीवाड़ा का आरोप दर्ज कराये जाने के बाद आयोग ने कल उन्हें नोटिस जारी किया था. आयोग ने उन्हें 26 जून को पेश होने का निर्देश दिया है.

आयोग की प्रमुख बरखा सिंह ने कहा, ‘दोनों http://www.shaadi.com/ से मिले थे और भारती ने उनसे झूठ कहा था कि उनकी एक अंतरराष्ट्रीय लॉ फर्म है.’ इसी बीच दिल्ली बीजेपी की युवा शाखा ने भारती के खिलाफ प्रदर्शन किया. बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारियों ने मालवीय नगर स्थित आवास की ओर कूच किया और मामले की गहन जांच की मांग की. भारती ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा, ‘मैं अपनी पत्नी और बच्चों से प्यार करता हूं. आरोप पूरी तरह बेबुनियाद हैं.’

संयोग है कि पूर्व कांग्रेस विधायक बरखा सिंह, जिनका दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष के रूप में कार्यकाल अगले महीने खत्म हो रहा है, ने मुख्यमंत्री पर हमला बोला है और कहा, ‘मैं जानना चाहती हूं कि क्या दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, जिन्होंने कुमार विश्वास को बचाने के लिए सक्रिय रुख अपनाया था, सोमनाथ भारती के मामले में भी ऐसा ही करेंगे.’ पिछले महीने आयोग ने विश्वास को सम्मन जारी किया था. ‘आप’ की एक कार्यकर्ता ने विश्वास पर आरोप लगाया कि उनके साथ अवैध रिश्ते को लेकर जो झूठी अफवाह फैलायी जा रही है, विश्वास उसे दूर नहीं कर रहे हैं.

IANS से भी इनपुट