श्रीनगर. 1990 में आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन ने कशमीर घाटी में आतंकवाद की ऐसी हवा चलाई की कश्मीरी पंडित घाटी से पलायन पर मजबूर हो गए. अब इस संगठन ने वीडियो जारी कश्‍मीरी पंडितों को लौट आने की अपील की है. साथ ही घाटी में वापस आने वाले पंडितों की सुरक्षा सुनिश्चित करने का भरोसा भी दिया है. 
 
आतंकी संगठन की तरफ से जारी किए विडियो में कहा गया है कि हम कश्‍मीरी पंडितों से निवेदन करते हैं कि वे अपने घर लौटकर आ जाएं. हम उनकी सुरक्षा की पूरी जिम्‍मेदारी लेते हैं. इस विडियो में हिजबुल मुजाहिदीन का नया कमांडर जाकिर रशीद भट उर्फ ‘मूसा’ अपील करता दिख रहा है. इसके साथ ही मूसा ने यह भी कहा कि वह सिख युवाओं का एक एक अलग संगठन बनाने की योजना है.
 
बता दें कि कश्‍मीर में 90 के दशक में हिजबुल मुजाहिदीन के आतंक की वजह से कश्‍मीरी पंडितों अपना घर-बार छोड़कर पलायन के लिए मजबूर हो गए थे. हजारों कश्‍मीरी पंडित आतंकवादियों द्वारा निशाना बनाए जाने की वजह से घाटी छोड़कर जम्‍मू और देश के अन्‍य इलाकों में पलायन के लिए मजबूर हो गए थे.
 
कुछ महीनों पहले भारतीय सेना द्वारा एनकाउंटर में मारे गए हिजबुल के कमांडर बुरहान वानी के उत्‍तराधिकारी बने जाकिर रशीद ने कहा कि उन्‍हें उन पंडितों को देखना चाहिए जो कभी भी कश्‍मीर छोड़कर गए ही नहीं. उन्‍हें किसने मारा या प्रताड़ित किया?