हरिद्वार. खुद को देवी बताने वाली राधे मां फिर से विवादों में आ गई हैं. इस बार राधे मां ने सैंडल पहनकर तीर्थ स्थल ‘हर की पौड़ी’ पर जूते पहनकर चली गईं और गंगा की पूजा की हैं. उनकी इस हरकत की वजह से वहां मौजूद पुरोहित खफा हो गए हैं. 
 
राधे मां के जूते पहनकर गंगा पूजन करने से नाराज हरिद्वार के तीर्थ पुरोहितों ने उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. पुरोहितों ने मांग की है कि राधे मां पर कार्रवाई की जाए. रिपोर्ट्स के मुताबिक हर की पौड़ी हरिद्वार पहुंचकर मां गंगा के दर्शन किए. गंगा में पॉलिथीन में दूध लेकर दुग्धाभिषेक भी किया.
 
इस दौरान जूते पहनकर गंगा घाट पर पहुंचने को लेकर राधे मां विवादों में आ गई. हालांकि उनके भक्तों ने यह कहकर सफाई दी कि जूते कपड़े के थे. नियम के खिलाफ की गंगा आरती राधे मां ने शरद पूर्णिमा की रात 2:30 बजे न केवल हर की पौड़ी इलाके में स्नान किया, बल्कि वहां गंगा आरती भी कर डाली.
 
उनकी इस गंगा आरती को अब हरिद्वार के साधू संत और तीर्थ पुरोहित सनातन धर्म के नियमों के विपरित बताकर उनसे माफी मांगने की मांग कर रहे हैं. युवा गंगा तीर्थ पुरोहित सभा के उज्जवल पंडित ने कहा कि रात्रिकाल में देवता भी सोते रहते हैं, इस तरह उनके शयनकाल के समय मां गंगा की आरती करना नियम के प्रतिकूल है.