Hindi national Farooq Abdullah, Kashmir Issue, War with Pakistan, Terror in kashmir, Hurriyat Conference, POK, Vajpayee Government http://www.inkhabar.com/sites/inkhabar.com/files/field/image/Abdulla.JPG
Home » National » युद्ध से हम पाकिस्तान को नहीं जीत सकते, बातचीत ही सिर्फ एक रास्ता : फारुख अब्दुल्ला

युद्ध से हम पाकिस्तान को नहीं जीत सकते, बातचीत ही सिर्फ एक रास्ता : फारुख अब्दुल्ला

युद्ध से हम पाकिस्तान को नहीं जीत सकते, बातचीत ही सिर्फ एक रास्ता : फारुख अब्दुल्ला

| Updated: Monday, October 17, 2016 - 12:01
Farooq Abdullah, Kashmir issue, War with Pakistan, Terror in kashmir, Hurriyat Conference, POK, Vajpayee Government

exclusive farooq abdullah says only talk is way to solve Kashmir issue and india can not win pakistan in war

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
युद्ध से हम पाकिस्तान को नहीं जीत सकते, बातचीत ही सिर्फ एक रास्ता : फारुख अब्दुल्लाexclusive farooq abdullah says only talk is way to solve Kashmir issue and india can not win pakistan in war Monday, October 17, 2016 - 12:01+05:30
नई दिल्ली.  जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला ने इनखबर/इंडिया न्यूज से खास बातचीत में कहा है कि सर्जिकल स्ट्राइक या किसी भी युद्ध से कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के साथ विवाद का निपटारा सिर्फ बातचीत से ही सुलझाया जा सकता है. 

 
पूर्व सीएम ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक के बाद भी हमारे जवान लगातार मारे जा रहे हैं. राज्य में आतंकवाद सालों से चल रहा है जिसको रोकने के लिए बातचीत ही एक रास्ता है. फारुख अब्दुल्ला ने कश्मीर के मसले पर मोदी सरकार की नीति पर सीधे कुछ न कहते हुए सवाल जरूर उठाए हैं.

 
उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में आज भी आतंकवादियों के कैंप चल रहे हैं. कश्मीर के मुद्दे पर वाजपेयी सरकार की याद करते हुए कहा कि कारगिल के बाद भी उनकी सरकार ने परवेज मुशर्रफ से बातचीत की थी. 

 
वहीं पाकिस्तान के साथ युद्ध के हालात पर नेशनल कांफ्रेस के बुजुर्ग नेता ने कहा कि दोनों देशों के पास खतरनाक हथियार हैं.  युद्ध से पाकिस्तान के साथ हम नहीं जीत सकते. उसमें बर्बादी के सिवाए कुछ हासिल नहीं होगा. 70 सालों में हमने जो तरक्की की है,वह सब खत्म हो जाएगी.  

 
जम्मू-कश्मीर के अभी के हालात का जिक्र करते हुए फारुख अब्दुल्ला ने कहा कि हमें पहले अपना घर दुरुस्त करना चाहिए. वहीं जब उनसे सर्जिकल स्ट्राइक पर हो रही राजनीति के बारे में पूछा गया तो उन्होनें कहा कि इसके बारे में तो सिर्फ प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री ही बता सकते हैं. मुझसे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है.

 
हुर्रियत के मसले भी उनका कहना था कि केंद्र सरकार को जम्मू-कश्मीर में सबसे बातचीत करनी चाहिए. हुर्रियत को भी इसमें शामिल करना चाहिए. इसके अलावा इस मसले को निपटाने का कोई दूसरा रास्ता नहीं है.

 
वहीं राहुल गांधी के खून की दलाली वाले बयान पर उन्होंने पल्ला झाड़ते हुए कहा कि मैं ऐसे शब्दों का इस्तेमाल नहीं करते हैं और उन्होंने (राहुल गांधी) ने क्यों और किसके बारे में कहा इसकी जानकारी नहीं है.
First Published | Monday, October 17, 2016 - 11:45
For Hindi News Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
Web Title: exclusive farooq abdullah says only talk is way to solve Kashmir issue and india can not win pakistan in war
(Latest News in Hindi from inKhabar)
Disclaimer: India News Channel Ka India Tv Se Koi Sambandh Nahi Hai

Add new comment

CAPTCHA
This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

फोटो गैलरी

  • मुंबई के केलु रोड स्टेशन पर एक ट्रेन में सवार अभिनेता विवेक ओबेरॉय
  • मुंबई में अभिनेत्री सनी लियोन "ज़ी सिने पुरस्कार 2017" के दौरान प्रदर्शन करते हुए
  • सूफी गायक ममता जोशी, पटना में एक कार्यक्रम के दौरान प्रदर्शन करते हुए
  • लखनऊ में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बधाई देते प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी
  • नई दिल्ली में बीजेपी मुख्यालय के बाहर बीजेपी नेता संजीव बल्यान के खिलाफ प्रदर्शन करते महिला कांग्रेस के कार्यकर्ता
  • चेन्नई बंदरगाह पर भारतीय तटरक्षक बल आईसीजीएस शनाक का स्वागत
  • आगरा में ताजमहल देखने पहुंचे आयरलैंड के क्रिकेटर
  • अरुणाचल प्रदेश में सेला दर्रे पर भारी बर्फबारी का एक दृश्य
  • कोलकाता के ईडन गार्डन में वंचित बच्चों की मदद के लिए क्रिकेट खेलने पहुंचे पूर्व क्रिकेटर टीएमसी मंत्री लक्ष्मी रतन सुक्ला
  • नई दिल्ली में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मुंबई में अंतर्राष्ट्रीय डायमंड सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी
Shauryagatha