इलाहाबाद. मोदी सरकार के लिए मुसीबत का सबब बनने वाले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेता और राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने एक बार फिर मोदी सरकार की मश्किलें बढ़ा दी हैं. स्वामी कांग्रेस से जुड़े पूर्व प्रधानमन्त्री पीवी नरसिंह राव को विकास पुरुष बताते हुए उन्हें भारत रत्न दिए जाने की मांग की है. स्वामी ने कहा कि नरसिंह राव ने देश के विकास के लिए जो काम किए, वह सही में बेमिसाल थे, इसलिए उन्हें 26 जनवरी से पहले ही भारत रत्न दे देना चाहिए.
 
‘कांग्रेस ने नरसिंह राव के साथ इंसाफ नहीं किया’
इलाहाबाद में एक सेमिनार में बोलते हुए स्वामी ने जहां पूर्व पीएम नरसिंह राव की तारीफ की, वहीं पूर्व पीएम रहे मनमोहन सिंह पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि देश और कांग्रेस ने नरसिंह राव के साथ इंसाफ नहीं किया था. जिन कामों का क्रेडिए नरसिंह राव को मिलना चाहिए था, दरअसल उन्हें मिला नहीं, इसकी बजाय इनका क्रेडिए मनमोहन सिंह को दिया गया.
 
‘राम मंदिर के लिए कोर्ट में नई अर्जी जल्द डालेंगे’
सुब्रमण्यम स्वामी ने इलाहबाद के इस कार्यक्रम में राम मंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट में दो हफ्ते बाद नई अर्जी दाखिल किए जाने का भी ऐलान किया. उन्होंने कहा कि अपनी इस अर्जी के जरिए वह कोर्ट से राम मंदिर विवाद का निपटारा दो महीने में किए जाने की अपील करेंगे. उन्होंने उम्मीद जताई कि कोर्ट का फैसला राम मंदिर के हक में ही आएगा.
 
‘यूपी चुनाव में राम मंदिर मुख्य मुद्दा’
स्वामी ने कहा कि आगामी यूपी चुनाव में बीजेपी राज में कानून-व्यवस्था की स्थिति दूसरी पार्टियों से बेहतर रहेगी. उन्होंने कहा कि यूपी चुनाव में इस बार विकास के साथ ही राम मंदिर निर्माण और कानून-व्यवस्था अहम मुद्दे होंगे. स्वामी ने आगे कहा कि बीजेपी को राम मंदिर की वजह से ही सत्ता मिली है.