गोवा.  गोवा में चल रहे 8 वें ब्रिक्स (ब्राजील, रूस, भारत, चीन, दक्षिण अफ्रीका) सम्मेलन के मंच से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान पर तगड़ा हमला बोला है. उन्होंने कहा कि बिना नाम लिए कहा कि दुर्भाग्य से भारत के पड़ोस में आतंकवाद की जन्मभूमि है.
 
मोदी ने कहा, वहां न केवल आतंकियों को पनाह मिलती है बल्कि आतंक को सही ठहराने की मानसिकता भी है. प्रधानमंत्री ने आतंकवाद को विकास दुश्मन बताते हुए कहा कि यह हमारी उन्नति पर सबसे बड़ा खतरा है. 
 
बिक्स देशों की ओर अपील करते हुए मोदी ने कहा कि हमें आतंकवाद के खिलाफ खुलकर खड़े होना चाहिए. उन्होंने कहा कि जब आतंकी मानसिकता के लोग दावा करते हैं कि राजनीतिक फायदे के लिए आतंकवाद का इस्तेमाल जायज है तो हमें मिलकर इसकी कड़ी निंदा करनी चाहिए. प्रधानमंत्री ने अगाह करते हुए कहा कि मध्य पूर्व, मिडिल ईस्ट, वेस्ट एशिया यूरोप और साउथ एशिया के लिए आतंकवाद सबसे बड़ा खतरा बन चुका है.
 
मोदी ने पाकिस्तान का बिना नाम लिए कहा कि हर तरह का टेरर माड्यूल इस देश से चलाया जा रहा है. यहां पर आतंकी मानसिकता वाले लोगों को पाला जा रहा है. वहीं चीन की ओर भी इशारा करते हुए कहा कि आतंकवादियों और उनके समर्थकों सजा मिलनी चाहिए न कि इनाम.
 
गौरतलब है कि उरी में हुए हमले के बाद प्रधानमंत्री ने खुले तौर पर ऐलान किया था कि हम पाकिस्तान को दुनिया के मंच से अलग-थलग कर देंगे. भारत ने इस मामले में अच्छी-खासी कूटनीतिक सफलता पाई है.

ब्रिक्स सम्मेलन में भी भारत को आतंकवाद पर सभी देशों ने समर्थन किया है. हालांकि चीन की ओर से जैश-मोहम्मद के आका मसूद अजहर पर कोर्ई ठोस बात नहीं की गई है और वह अभी भी अपने रुख पर कायम है. 
 

ब्रिक्स-बिम्सटेक सम्मेलन के लिए प्रचंड और शेख हसीना गोवा पहुंचे
इसस साल ब्रिक्स देशों के सम्मेलन के बाद परंपरा को तौर पर ब्रिक्स और बिम्सटेक यानी बे ऑफ बंगाल इनिशिएटिव फॉर मल्टी-सेक्टरल टेक्निकल एवं इकोनॉमिक कोऑपरेशन का सम्मेलन में भी आयोजित कर सकता है. बिम्सटेक में  भारत, बांग्लादेश, भूटान, नेपाल, म्यांमार, थाईलैंड ओर श्रीलंका शामिल हैं.