इटावा. आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक दलों ने अपनी-अपनी कमर कस ली है लेकिन समाजवादी पार्टी (सपा) में मचा घमासान शांत होने का नाम नहीं ले रहा है. शनिवार को शिवपाल यादव सीएम न बनने का दर्द उस समय साफ झलका जह उन्होंने मुख्यमंत्री और भतीजे अखिलेश यादव पर तंज कसते हुए कहा है कि कुछ लोगों को सब कुछ विरासत में और भाग्य से मिल जाता है, जबकि कुछ लोगों की जिंदगी निकल जाती है.
 
शिवपाल ने कहा था कि कुछ लोगों को सब कुछ विरासत में और भाग्य से मिल जाता है और कुछ लोगों को मेहनत करते-करते जिंदगी बीत जाती है लेकिन उन्हें कुछ नहीं मिलता लेकिन तब भी समाज की सेवा करते रहते हैं. बता दें कि शिवपाल यादव ‘बाबरी मस्जिद, एक प्रेम कथा’ फिल्म के विमोचन के लिए इटावा पहुंचे थे. उनके भाषण में समाजवादी परिवार में मचे घमासान का दर्द छलक पड़ा. 
 
शिवपाल ने कहा कि मेरी राजनीति की शुरुआत, नेता जी मुलायम सिंह यादव के साथ हो गई थी. हमने नेताजी के साथ राजनीति में कई उतार चढाव देखें लेकिन वो कभी नहीं रुके. हम बचपन से उनके साथ रहे हैं, हमने नेता जी की बहुत सेवा की है. हमने नेताजी के कपड़े से लेकर उन्हें पानी पिलाने तक और तो और आज जो कुछ भी हूं वो नेता जी के आशीर्वाद से हूं.