भोपाल. मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में शौर्य स्मारक सभा में पूर्व सैनिकों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सेना ने हमेशा लोगों की रक्षा की. उन्होंने अपने भाषण की शुरुआत ‘जवानों अमर रहो’ नारे के साथ करते हुए कहा कि कश्मीरी सेना पर पत्थरों से हमला करते हैं लेकिन फिर भी जवानों ने बाढ़ के वक्त उनकी मदद की.
 
पीएम मोदी ने कहा कि कश्मीरियों की पत्थरबाजी के बाद भी सेना ने बाढ़ के वक्त सब कुछ भुलाकर उनकी मदद की थी. उन्होंने कहा कि कश्मीर और केदारनाथ की बाढ़ में फंसे लोगों को बचाने के लिए सेना ने अपने आप को खपाया.
 
रक्षा के लिए जवानों ने जवानी खपाई
मोदी ने जवानों के शौर्य पर बात करते हुए कहा कि देश की रक्षा के लिए हमारे जवान हमेशा तैयार रहते हैं. उन्होंने कहा कि देश चैन की नींद सो सके इसके लिए जवान अपनी जवानी खपा देते हैं.
 
विश्व युद्ध में भी शौर्य का परिचय दिया
मोदी ने कहा कि दोनों विश्वयुद्ध से भारत को कोई लेना देना नहीं था, फिर भी उन युद्धों में भारत के करीब डेढ़ लोगों ने कुर्बानी दी. 
 
पाकिस्तान के नागरिकों को भी बचाया
पीएम मोदी ने कहा कि सेना ने हमेशा अपना फर्ज निभाया है. यहां तक कि सेना ने भारत के अलावा यमन में फंसे पाकिस्तान के नागरिकों को भी बचाया है. उन्होंने कहा कि हमारी सेना मानवता की सबसे बड़ी मिसाल है.
 
सेना बोलती नहीं, पराक्रम दिखाती है
मोदी ने कहा कि सेना का मनोबल उसका सबसे बड़ा शस्त्र है और यह ताकत सवा सौ करोड़ लोगों की भावना से आती है. उन्होंने कहा कि हमारी सेना बोलती नहीं है वह अपना काम करके दिखाती है.
 
रक्षा मंत्री बोलते नहीं, काम करते हैं
पीएम मोदी ने रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर का भी जिक्र करते हुए कहा कि जिस तरह से हमारी सेना कुछ बोलती नहीं पराक्रम करती है उसी तरह से हमारे रक्षा मंत्री भी कुछ बोलते नहीं है काम करके दिखाते हैं.
 
सर्जिकल स्ट्राइक पर बोले मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान के खिलाफ भारत की तरफ से की गई सर्जिकल स्ट्राइक पर इशारों में कहा कि पहले रोज उनसे ये सवाल किया जाता था कि मोदी कुछ क्यों नहीं करते. उन्होंने कहा, ‘रोज मेरे बाल नोंच लिए जाते थे कि मोदी कुछ करता नहीं है.’ 
 
वन रेंक वन पेंशन का वादा किया पूरा
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वन रेंक वन पेंशन का जिक्र करते हुए कहा है कि हमारी सरकार ने वन रेंक वन पेंशन का वादा पूरा किया है, जिसे हम चार किश्त में पूरी तरह वितरित करने की योजना में हैं. 
 
उन्होंने कहा कि हमने निर्णय लिया है कि ओआरओपी के आधार पर ही सातवां वेतन आयोग गिना जाएगा ताकि सैनिकों को अधिक फायदा हो. उन्होंने कहा, ‘हम 50,000 रिटायर्ड फौजियों के लिए रोजगार उत्पन्न कर रहे हैं. हमारी सरकार ने फौजियों के बच्चों के लिए स्कॉलरशिफ बढ़ाकर 5,500 रुपये कर दी है’ 
 
शौर्य स्मारक संस्कार देने के लिए ओपन स्कूल
मोदी ने कहा कि हमें हमेशा हमारे जवानों का सम्मान करना चाहिए. उन्होंने कहा कि शौर्य स्मारक हमारी पीढ़ियों को संस्कार देने के लिए ओपन स्कूल है.