Hindi national shivshankar menon, National Security Adviser, pakistan, China, shivshankar menon book, Terrorism http://www.inkhabar.com/sites/inkhabar.com/files/field/image/shivshankar-menon.jpg

kissa kursi kaa

Home » National » भारत को पाकिस्तान और चीन से नहीं बल्कि अंदर से है ज्यादा खतरा: पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार

भारत को पाकिस्तान और चीन से नहीं बल्कि अंदर से है ज्यादा खतरा: पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार

भारत को पाकिस्तान और चीन से नहीं बल्कि अंदर से है ज्यादा खतरा: पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार

| Updated: Friday, October 14, 2016 - 12:19
shivshankar menon, national security adviser, pakistan, china, shivshankar menon book, terrorism

former nsa shivshankar menon said india faces threat from inside

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
भारत को पाकिस्तान और चीन से नहीं बल्कि अंदर से है ज्यादा खतरा: पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारformer nsa shivshankar menon said india faces threat from insideFriday, October 14, 2016 - 12:19+05:30
नई दिल्ली. भारत को जहां पाकिस्तान और चीन से खतरा होने की बात कही जा रही है वहीं, इस बारे में देश के पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार शिवशंकर मेनन का कुछ और मानना है. उनका कहना है कि भारत को पाकिस्तान और चीन जैसी बाहरी ताकतों से  नहीं बल्कि आतंरिक खतरा है. ये खतरे सांप्रदायिक और सामाजिक हिंसा से जन्म लेते हैं. 
 
मेनन से पूछा गया था कि क्या पाकिस्तान या चीन से भारत के अस्तित्व को कोई खतरा हो सकता है, तो उन्होंने कहा, 'नहीं, राष्ट्रीय सुरक्षा के सदंर्भ में खतरे आंतरिक हैं.' मेनन ने कहा कि आज भारत के अस्तित्व पर वैसा कोई खतरा नहीं है जैसा की 50 के दशक में था. 60 दशक में आंतरिक अलगाववादी खतरे थे. लेकिन, अब हम उनसे निपट चुके हैं. 
 
बढ़ी है सांप्रदायिक और आंतरिक हिंसा
शिवशंकर मेनन पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल में जनवरी 2010 से मई 2014 तक राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रहे हैं. अगल हफ्ते उनकी किताब 'च्वॉइसेज: इंसाइड द मेकिंग आॅफ इंडियाज फॉरेन पॉलिसी, आने वाली है. 
 
भारत के आंतरिक खतरों के संबंध में उन्होंने आगे कहा कि भारत की अवधारणा और अखंडता को वास्तविक खतरे देश के अंदर से हैं. भारत में हिंसा को देखें तो आतंकवाद और वामपंथी चरमपंथ से होने वाली मौतों में 21वीं सदी में साल 2014-15 तक लगातार कमी आई है. साल 2012 से सांप्रदायिक, सामाजिक और आंतरिक हिंसा बढ़ी है। हमारे लिए इससे निपटने का तरीका ढूंढना जरूरी है. 
 
पाक में परमाणु हथियार पर सेना का नियंत्रण
देश के त्वरित विकास से जुड़े खतरों के बारे में मेनन ने कहा कि भारत बदल गया है. यह सामान्य है. बदलाव के दौरान ऐसा कई समाजों के साथ हुआ है. हालांकि, आपको इससे निपटना का सही ​तरीका खोजना होगा. 
 
पाकिस्तान को लेकर शिवशंकर मेनन ने कहा कि पाकिस्तान के परमाणु हथियारों को असल खतरा आतंकवादी संगठनों से नहीं ब​ल्कि उसकी सेना में मौजूद अस्थिर तत्वों से है. परमाणु हथियार एक ​जटिल उपकरण हैं, जिसके इस्तेमाल के लिए उच्च स्तर के कौशल की जरूरत होती है. विश्व में केवल पाकिस्तान का ऐसा परमाणु हथियार कार्यक्रम है, जिस पर सेना नियंत्रण करती है.
First Published | Friday, October 14, 2016 - 12:15
For Hindi News Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
Web Title: former nsa shivshankar menon said india faces threat from inside
(Latest News in Hindi from inKhabar)
Disclaimer: India News Channel Ka India Tv Se Koi Sambandh Nahi Hai

Add new comment

CAPTCHA
This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

फोटो गैलरी

  • अभिनेता शक्ति कपूर, भुवनेश्वर में एक कार्यक्रम के दौरान प्रदर्शन करते हुए
  • मुंबई में टीवी रियल्टी शो "वॉइस इंडिया सीजन-2" के सेट पर अपनी फिल्म रंगून के प्रचार के दौरान अभिनेत्री कंगना राणावत
  • मुंबई में "सेंट्रिक स्मार्ट फोन न्यू रेंज" लांच के दौरान अभिनेत्री नेहा धूपिया
  • मुंबई के खार में कुछ ऐसी दिखीं अभिनेत्री करीना कपूर
  • बीजेपी के वरिष्ठ नेता एम. वेंकैया नायडू, वाराणसी में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए
  • देहरादून में अपना वोट डालने के बाद अपनी ऊँगली दिखाते हुए उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत
  • लखनऊ में समाजवादी पार्टी रैली के दौरान मुलायम सिंह यादव, उनकी छोटी बहू अपर्णा यादव के साथ
  • AIMIM के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी, लखनऊ में एक रैली को संबोधित करते हुए
  • छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस नेता अजीत जोगी, नागपुर में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए
  • अन्नाद्रमुक महासचिव विजय कुमार शशिकला, चेन्नई के मरीना समुद्र तट पर जयललिता को श्रधांजलि देते हुए
Shauryagatha