मुंबई. नेपाल के डिप्टी पीएम बिमलेंद्र निधि ने हमारे सहयोगी चैनल को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में जहां चीन को दोस्त और भारत को रिश्तेदार बताया वहीं पाकिस्तान की बखियां उधेड़ दीं और कहा कि आतंकवाद के खिलाफ जंग में वो भारत के साथ है और अपनी जमीन का इस्तेमाल किसी भी पड़ोसी के खिलाफ नहीं होने देगा.

नेपाल में माओवादियों और नेपाली कांग्रेस के गठबंधन सरकार में माओवादी नेता प्रचंड प्रधानमंत्री हैं जबकि नेपाली कांग्रेस के नेता बिमलेंद्र उपप्रधानमंत्री. मधेशी समुदाय से ताल्लुक रखने वाले बिमलेंद्र ने कहा कि नेपाल और भारत के लोगों के बीच जो लगाव है, उसे कोई कम नहीं कर सकता.
 

नेपाल में कुछ लोग हैं जिन्हें लगता है कि भारत के खिलाफ बोलने से वोट बैंक बढ़ेगा

बिमलेंद्र निधि ने माना कि नेपाल और भारत के संबंध बिगड़े हैं लेकिन उनकी सरकार भारत के साथ संबंध सुधारने के लिए प्रतिबद्ध है. उन्होंने कहा कि नेपाल और भारत की जनता के बीच लगाव को कोई कम नहीं कर सकता क्योंकि नेपाल में जब-जब लोकतंत्र को खतरा हुआ, भारत ने हमारा साथ दिया है.

निधि ने कहा कि आतंक के ख़िलाफ़ लड़ाई में नेपाल भारत के साथ है. कश्मीर में आतंकी घटना की भर्त्सना करते हुए निधि ने कहा कि नेपाल क्रॉस बॉर्डर टेररिज्म के ख़िलाफ़ है और उसे रोकने के लिए भारत के साथ है.

उन्होंने कहा कि भारत और नेपाल के संबंध को बिगाड़ने वाले अतिवादी लोग दोनों देश में हैं. उन्होंने कहा कि नेपाल में भी कुछ लोग ऐसे हैं जिन्हें लगता है कि भारत के खिलाफ बोलने से उनका वोट बैंक बढ़ेगा.
 

पाकिस्तान को आतंकी गतिविधियां रोकने के लिए कड़े कदम उठाने चाहिए

नेपाली डिप्टी पीएम ने कहा कि पाकिस्तानी ज़मीन को आतंकी गतिविधियो के लिए इस्तेमाल किया जाता है. उन्होंने कहा कि भारत ही नहीं, पाकिस्तानी जमीन का इस्तेमाल अमेरिका के खिलाफ भी किया गया था, जिसके बाद अमेरिका ने पाकिस्तान में घुसकर आतंकियों का खात्मा किया. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को आतंकी गतिविधियों को रोकने के लिए कड़े कदम उठाने चाहिए.

निधि ने कहा कि नेपाल अपनी जमीन को किसी भी पड़ोसी देश के खिलाफ इस्तेमाल नहीं होने देगा. उन्होंने कहा कि भारत और नेपाल के बीच सुरक्षा को लेकर मीटिंग होती रहती है और वो ये भरोसा दिलाना चाहते हैं कि नेपाल अपनी ज़मीन का इस्तेमाल भारत के ख़िलाफ़ नहीं होने देगा. निधि ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता की दावेदारी का भी समर्थन किया.
 

खुली सीमा के कारण होती है नकली नोट की तस्करी लेकिन हम कड़ाई से एक्शन लेते हैं

भारत में नकली नोट नेपाली रास्ते से आने के सवाल पर निधि ने कहा कि भारत में नकली नोट ले जाने या दूसरे अपराधों के लिए नेपाली ज़मीन के इस्तेमाल की कोशिश होती है क्योंकि भारत और नेपाल की सीमा खुली है लेकिन नेपाली प्रशासन को जैसे ही इसकी कोई जानकारी मिलती है वो कड़ी कार्रवाई करता है.

इस्लामाबाद में सार्क सम्मिट टलने पर निधि ने कहा कि नेपाल चाहता था कि सार्क सम्मिट हो लेकिन बाकी देशों ने ऐसे माहौल में शामिल होने से मना कर दिया था इसीलिए अगली तारीख घोषित होने तक ये रद्द कर दी गई.
 

चीन हमारे नजदीक आता है तो किसी को आपत्ति नहीं होनी चाहिए

निधि ने भारत और चीन के साथ नेपाल के संबंध पर सरकार का रुख साफ करते हुए कहा कि चीन से दोस्ती है जबकि भारत से रिश्तेदारी. उन्होंने कहा कि चीन और भारत दोनों पडोसी हैं और दोनों को एक-दूसरे के खिलाफ इस्तेमाल करने की नेपाल की कोई मंशा नहीं है.

उन्होंने साथ ही ये भी कहा कि चीन हमारे नजदीक आता है तो किसी को आपत्ति नहीं होनी चाहिए क्योंकि चीन से दोस्ती भारत से संबंध की कीमत पर नहीं होगी. उन्होंने बताया कि चीन के लोग जब भी नेपाल आते हैं तो वो यही सलाह देते है कि भारत से रिश्ता अच्छा रखो.

निधि ने भारत और पाकिस्तान को संबंध सुधारने की सलाह देते हुए कहा कि चीन को भी भारत और पाकिस्तान के संबंध सुधारने की दिशा में कोशिश करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि भारत में लोकतंत्र मजबूत होगा तो नेपाल में भी मजबूत होगा, भारत विकास करेगा तो नेपाल भी आगे बढ़ेगा.