पंपोर.  पुलिस से जुड़े सूत्रों के मुताबिक जम्मू कश्मीर में पंपोर  में ईडीआई बिल्डिंग में छिपे आतंकियों में से 2 को मार गिराया गया है. हालांकि अभी फायरिंग जारी है. आतंकियों का पता लगाने के लिए सुरक्षाबल ड्रोन का भी इस्तेमाल कर रहे हैं.
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर 
गौरतलब है कि आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच जारी मुठभेड़ का यह तीसरा दिन है. पंपोर की ईडीआई बिल्डिंग में पिछले 48 घंटों से आतंकी छिपे बैठे हैं. पूरे इलाके को घेर लिया गया है. 
इंटरप्रोन्योर डेवलपमेंट बिल्डिंग (ईडीआई) के हॉस्टल में घुसे लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी सोमवार से यहां घुसे हुए हैं. सुरक्षाबलों के अनुसार आतंकी ईडीआई हॉस्टल में पीछे से आए थे.
आतंकियों का नाव से झेलम नदी पार करके आना बताया जा रहा है. इंस्टिट्यूट के ही एक कर्मचारी ने सबसे पहले आतंकियों को देखा था. इसके बाद उन्होंने सोमवार सुबह पांच बजे गोलीबारी शुरू कर दी थी. सुरक्षाबलों ने भी जवाबी फायरिंग की. पहले दिन की फायरिंग में एक जवान घायल भी हो गया था.
सुरक्षा सूत्रों के मुताबिक आतंकी सुरक्षा बलों से संघर्ष लंबा खींचकर पूरी दुनिया का ध्यान आकर्षित करना चाहते हैं. इस रणनीति के तहत सेना के कैंप और महत्वपूर्ण इमारतें उनके निशाने पर हैं.
इंटरसेप्ट से पता चला है कि आतंकी समूह सर्जिकल स्ट्राइक का बदला लेने का संदेश बड़े पैमाने पर देना चाहते हैं. आईएसआई और पाकिस्तान सेना की शह पर पूरी रणनीति बनाई गई है.
ईडीआई की हॉस्टल बिल्डिंग में छिपे आतंकवादियों का खात्मा करने के लिए सुरक्षाबलों की तरफ से लगातार रॉकेट लांचर औऱ ग्रेनेड दागे जा रहे हैं.
इस वजह से बिल्डिंग की तीन मंजिलें लगभग पूरी तरह जल चुकी हैं. राज्य के पुलिस महानिदेशक के. राजेंद्रा ने बताया कि हमारा प्रयास है कि सुरक्षाबलों को किसी भी तरह का नुकसान नहीं पहुंचे. आतंकियों को मारने में समय लग रहा है.  इसके अलावा यह इमारत पूरी कंक्रीट की बनी हुई है.