Home » National » मूर्ति विसर्जन का समय तय करने का मामला: ममता सरकार का फैसला रद्द, HC ने कहा- ये अल्पसंख्यकों का तुष्टीकरण

मूर्ति विसर्जन का समय तय करने का मामला: ममता सरकार का फैसला रद्द, HC ने कहा- ये अल्पसंख्यकों का तुष्टीकरण

मूर्ति विसर्जन का समय तय करने का मामला: ममता सरकार का फैसला रद्द, HC ने कहा- ये अल्पसंख्यकों का तुष्टीकरण

By Web Desk | Updated: Sunday, October 9, 2016 - 17:50
calcutta high court, durga puja, durga puja idol immersion, moharram, tazia moharram, india news, latest news, mamata government

High court quashes the decision of mamata government to curb immersion of idol

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
कोलकाता. पश्चिम बंगाल में ममता सरकार को कोलकाता हाईकोर्ट से तगड़ झटका लगता है. कोर्ट ने मुहर्रम के चलते दुर्गा मूर्तियों के विसर्जन के लिए समय तय करने का फैसला रद्द कर दिया है.
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर

अदालत ने फैसला सुनाते हुए साफ शब्दों में कहा कि इससे जाहिर होता है कि राज्य सरकार अल्पसंख्यकों को केवल खुश करना चाहती है.

आपको बता दें कि जस्टिस दीपांकर दत्ता की एकल की बेंच ने यह अहम फैसला सुनाया है. अदालत ने कहा कि हम कठिन में समय हैं. धर्म के साथ राजनीति को मिलाने के नतीजे ठीक नहीं होंगे. हमें एक समुदाय को दूसरे समुदाय के खिलाफ खड़े कर देने वाले फैसले नहीं लेने चाहिए. इससे समाज में असहिष्णुता पैदा होगी. 
कोर्ट ने आगे कहा 'इस फैसले साफ है कि बिना किसी प्रामाणिक तर्क के राज्य सरकार ने अल्पसंख्यकों को खुश करने के लिए बहुसंख्यक समुदाय कीमत पर यह फैसला लिया है. ऐसा करने की जरूरत नहीं है.'
कोर्ट ने प्रशासन को निर्देश देते हुए कहा कि विजया दशमी 11 अक्टूबर को है और उसके अगले दिन मुहर्रम का त्योहार है. दोनों समुदायों के लिए रूट सुनिश्चित करना चाहिए ताकि आपस में टकराव न हो साथ में यह भी कहा कि मुहर्रम के एक दिन पहले शाम को छुट्टी कभी नहीं हुई है. 
अदालत ने खिंचाई करते हुए कहा कि सरकार इस पर भी ध्यान नहीं दे पाई कि मुहर्रम कभी इस्लाम को मानने वालों को मुख्य त्योहार नहीं रहा है. सरकार अजीब तरीके से एक समुदाय के प्रति भेदभाव कर रही है. यह उन लोगों के मौलिक अधिकार का हनन है जो मां दुर्गा की पूजा करते हैं. 
इसके साथ ही जस्टिस दत्ता ने याद दिलाते हुए कहा कि कभी विजया दशमी के दिन मूर्तियों के विसर्जन पर को नहीं लगाई गई. बेंच ने बताया कि इससे पहले 1982 और 1983 में भी विजया दशमी के एक दिन मुहर्रम का त्योहार तो भी ऐसा कोई फैसला नहीं लिया गया था.
अदालत ने अपने में कहा कि विजयदशमी हिंदुओं के लिए परंपरा है जिसे एक दिन आगे नहीं खिसकाया जा सकता है. गौरतलब है कि राज्‍य सरकार के फैसले के खिलाफ तीन लोगों ने गुहार लगाई थी.
First Published | Sunday, October 9, 2016 - 17:46
For Hindi News Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
Web Title: High court quashes the decision of mamata government to curb immersion of idol
(Latest News in Hindi from inKhabar)
Disclaimer: India News Channel Ka India Tv Se Koi Sambandh Nahi Hai

Add new comment

CAPTCHA
This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

फोटो गैलरी

  • मुंबई में निकलोडियन "किड्स च्वाइस पुरस्कार 2016" के दौरान अभिनेत्री दीपिका पादुकोण
  • मुंबई में अभिनेत्री मलाइका अरोड़ा और अमृता अरोड़ा, फैशन डिजाइनर मनीष मल्होत्रा ​​के जन्मदिन समारोह के दौरान
  • मथुरा के बरसाना में बच्चों के साथ अभिनेता अक्षय कुमार
  • मुंबई में "टाइम्स लिटफेस्ट 2016" के दौरान अभिनेत्री कंगना रानौत
  • कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया, बेंगलुरु में बाबा साहेब डॉ भीमराव अंबेडकर को उनकी पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि देते हुए
  • नई दिल्ली में योग गुरू बाबा रामदेव, खेल और युवा मामलों के राज्य मंत्री विजय गोयल से मुलाकात के दौरान
  • पटना में बिहार के राज्यपाल राम नाथ कोबिंद और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, बाबा साहेब डॉ भीमराव अम्बेडकर को उनकी पुण्यतिथि के अवसर पर श्रधांजलि देते हुए
  • नई दिल्ली में रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, वियतनाम के रक्षा मंत्री जनरल नगो गवां लिंच का स्वागत करते हुए
  • चेन्नई में AIDMK नेता जे. जयललिता को श्रधांजलि देने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
  • चेन्नई में तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता के पार्थिव शरीर को, एक एम्बुलेंस द्वारा उसके निवास पोएस गार्डन ले जाया गया