नई दिल्ली. सरकार ने रोहित वेमुला की मौत की जाँच रिपोर्ट सार्वजनिक करने से इनकार कर दिया है. एक RTI के माध्यम से मानव संसाधन एवं विकास मंत्रालय से इस बारे में जवाब मांग गया था. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
समाचार एजेंसी पीटीआई ने एक RTI दायर कर इस मामले में मंत्रालय से जवाब मांगा था. जिसके जवाब में मंत्रालय ने लिखा,’फाइल अभी जमा होने की प्रक्रिया में है। इसलिए रिपोर्ट की कॉपी इस समय उपलब्ध नहीं कराई जा सकती है.’ सूचना के अधिकार कानून के तहत सभी सरकारी मंत्रालय कुछ विशेष परिस्थितियों को छोड़कर RTI का जवाब देने के लिए बाध्य है. पर यहां मंत्रालय ने ऐसा करने से मना कर दिया.
 
इससे पहले मंत्रालय द्वारा बनाये गए एक सदस्यीय न्यायिक आयोग ने रोहित को अपनी आत्महत्या के लिए खुद ही ज़िम्मेदार ठहराया था. 41 पन्नो की अपनी रिपोर्ट में आयोग ने कहा है कि रोहित की मां ने आरक्षण का लाभ लेने के लिए अपने आप को दलित बताया. रोहित ने 17 जनवरी को हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के एक हास्टल में आत्महत्या कर ली थी जिसके बाद इस न्यायिक जाँच आयोग का गठन 28 जनवरी को हुआ था.