लखनऊ. उत्तरप्रदेश में 2017 में होने वाले विधानसभा चुनावों को देखते हुए सभी पार्टियों ने सूबे में शक्ति प्रदर्शन शुरु कर दिया है. इसी क्रम में बहुजन समाज पार्टी आज लखनऊ में एक बड़ी रैली करने जा रही है. पार्टी के संस्थापक मान्यवर कांशीराम की 10वीं पुण्यतिथि के मौके पर बसपा सुप्रीमो मायावती आज लखनऊ में चुनावी रैली को संबोधित करेंगी.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
पार्टी सूत्रों का दावा है कि बहनजी की पूर्व की रैलियों की तरह इस रैली में भी 8 लाख से ज्यादा लोगों के पहुंचने की उम्मीद हैं. जिसके चलते पार्टी आलाकमान के निर्देश के अनुसार रैली को सफल बनाने के लिए पार्टी के सभी वरिष्ठ नेता लखनऊ में मोर्चा संभाले हुए हैं.
 
बता दें कि बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने कांशीराम की पुण्यतिथि के मौके पर उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए अपने समर्थकों को लखनऊ बुलाया है. बीएसपी का दावा है कि इस रैली में करीब आठ से दस लाख लोग जुटेंगे. मायावती ने इस रैली में विरोधी दलों को घेरने की तैयारी की है. मायावती की इस रैली को दलितों और पिछड़े वोटरों में हो रही सेंधमारी को रोकने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है. उम्मीद है कि मायावती रैली में बीजेपी के हिंदुत्व मुद्दे पर हमला कर एक बार फिर से दलितों को अपनी ओर होने का संदेश देना चाहती हैं. 
 
मायावती इस रैली के माध्यम से भाजपा को मुंहतोड़ जवाब देना चाहती हैं. क्योंकि बसपा को छोड़कर भाजपा में शामिल हुए स्वामी प्रसाद मौर्य ने अब तक सबसे ज्यादा रैलियां मायावती के खिलाफ की हैं, और मायावती के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने वाले दयाशंकर की बीबी को बीजेपी ने महिला मोर्चा की अध्यक्ष बनाया है.  
 
बहुजन समाज पार्टी के यूपी अध्यक्ष रामअचल राजभर का दावा है कि भीड़ के मामले में रविवार को लखनऊ में इतिहास बनेगा. मायावती आज भाषण देंगी भारी बारिश के बावजूद लखनऊ को बीएसपी के नीले रंग से रंगा जा रहा है. शहर में हर तरफ पार्टी के होर्डिंग बैनर लग गए है. पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन के मुताबिक बुंदेलखंड से कार्यकर्ताओं को लाने के लिए 2 ट्रेनों को बुक किया गया है. इस ट्रेन से 40 हजार से ज्यादा कार्यकर्ताओं के आने की तैयारी की गई है. बुंदेलखंड पूरी तरह से सूखे और भुखमरी की कगार पर है. ऐसे में मायावती इस रैली के जरिए बुंदेलखंड के लोगों पर बसपा से जोड़ने का प्रयास भी करेंगी.