नई दिल्ली. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एलजी नजीब जंग को निशाना बनाते हुए कहा है कि पिछले डेढ़ सालों में दिल्ली सरकार ने जो फैसले लिए हैं उनको रद्द करने से दिल्ली दो साल पीछे चली जाएगी. पुराने फैसलों को रद्द करके जंग जी ने अराजकता जैसे हालात पैदा कर दिए हैं. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
केजरीवाल बहुत दिनों बाद शनिवार को मीडिया से रूबरू हुए हैं, इसी दौरान उन्होंने यह बात कही है. दिल्ली के सीएम ने कहा कि पुराने फैसलों को अमान्य करार देने से दिल्ली पर गंभीर असर पड़ेगा, लेकिन दुर्भाग्यवश अभी यही हो रहा है.
 
बता दें कि केजरीवाल ने यह बात तब कही जब शुक्रवार को दिल्ली वफ्फ बोर्ड के सीईओ की नियुक्ति को एलजी ने अवैध बताया था. इसके अलावा उपराज्यपाल ने केजरीवाल सरकार की तरफ से कृषि योग्य भूमि पर सर्किल रेट बढ़ाने के लिए पिछले साल लाई गई अधिसूचना को भी वापस लेने का भी आदेश दिया है.
 
 
केजरीवाल ने कहा है कि अगर जंग साहब को लगता है कि दिल्ली सरकार के फैसलों में भ्र्ष्टाचार हुआ है तो उसे अमान्य करार देने से पहले उसकी जांच कराई जा सकती है. उन्होंने कहा, ‘उच्च न्यायालय के फैसले से पहले हमारी सरकार ने कुछ फैसले एलजी साहब से बिना पूछे ले लिए थे, क्योंकि हमें लगा था कि कुछ मुद्दों पर राय लेने की जरूरत नहीं है.’
 
बता दें कि हाईकोर्ट ने 4 अगस्त को अपने फैसले में कहा था कि दिल्ली सरकार को उपराज्यपाल का हर फैसला मानना होगा, जिसके बाद से नजीब जंग केजरीवाल सरकार की तरफ से लिए गए हर फैसलों की समीक्षा कर रहे हैं.