नई दिल्ली. पाकिस्तान अपनी धरती का इस्तेमाल भारत के खिलाफ आतंकी गतिविधियों के लिए करता है, ये बात एक बार फिर सामने आ गई. भारतीय सेना ने कहा कि गुरुवार को कश्मीर के नौगाम सेक्टर में मारे गए चार आतंकवादियों से बरामद हुए सामान पाकिस्तान से होने की गवाही दे रहे हैं. बता दें कि आतंकियों के पास से पाकिस्तानी निशान वाले हैंड ग्रेनेड बरामद हुए हैं. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
सेना के प्रवक्ता ने बताया कि 6 अक्टूबर को नौगाम में सेना ने घुसपैठ की कोशिश कर रहे चार आतंकियों को मार गिराया था. उनके पास से  ग्रेनेड पर पाकिस्तान ऑर्डिनेंस फैक्टरी का निशान मौजूद हैं. साथ ही खाने-पीने के सामान और दवाओं पर भी पाकिस्तान से जुड़े निशान साफ देखे जा रहे हैं.  
 
 
सेना ने बताया कि आतंकवादियों के पास से छह बारूदी छड़ें, पेट्रोलियम, कुछ ज्वलनशील पदार्थ की छह बोतलें और लाइटर भी जब्त किए गए हैं. ये निशान इस बात की पुष्टि करते हैं कि आतंकवाद को बढ़ावा देने में पाकिस्तान का ही हाथ है.
 
 
सेना के प्रवक्ता के मुताबिक, 11 सितंबर को पुंछ में और 18 सितंबर को उरी आतंकी हमले में भी इसी तरह की ज्वलनशील पदार्थ का इस्तेमाल किया गया था. इन सब चीजों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता कि इन आतंकवादियों के पीछे पाकिस्तान का हाथ है. जो अपनी जमीन का इस्तेमाल भारत के खिलाफ करता है.
 
बता दें कि पिछले दिनों भारतीय सेना ने तीन बार आतंकियों की घुसपैठ की कोशिशों को नाकाम किया है. इनमें एक बार रामपुर में और दो बार नौगाम में है. नौगाम में सेना ने चार आतंकवादियों को भी मार गिराया था. जब से भारतीय सेना ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया था, उसके बाद से पाकिस्तान आतंकियों की घुसपैठ कराने की लगातार कोशिशें कर रहा है.