लखनऊ. भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने दयाशंकर की पत्नी स्वाति सिंह को उत्तर प्रदेश बीजेपी महिला मोर्चा की अध्यक्ष बनाया है. बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) प्रमुख मायावती पर अभद्र टिप्पणी के मामले में से पार्टी से 6 साल के लिए निष्कासित होने के बाद बीएसपी नेताओं ने उनकी बेटी पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
मायावती के खिलाफ लड़ेंगी चुनाव !
इसके बाद स्वाति सिंह ने भी सख्त लहजे में जवाब दिया और न्याय के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. स्वाति ने मायावती के खिलाफ चुनाव लड़ने की चुनौती देते हुए कहा था कि मायावती उत्तर प्रदेश में किसी भी सामान्य सीट से चुनाव लड़ें, वो खुद उनके खिलाफ विधानसभा चुनाव लड़ेगी.
 
 
हैदर अब्बास को बनाया गया अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष
वहीं प्रदेश प्रवक्ता डॉ. चन्द्रमोहन ने जानकारी दी है कि सांसद कौशल किशोर को अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष, सांसद छोटे लाल खरवार अनुसूचित जनजाति मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष और अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष हैदर अब्बास चांद को बनाया गया है.
 
 
‘ये लड़ाई मां-बेटी के सम्मान की है’
मायावती के खिलाफ विवादित बयान देकर स्वाति सिंह ने कहा था कि ये चुनाव लड़ने से ज्यादा महत्वपूर्ण मां-बेटी के सम्मान की लड़ाई का मुद्दा है. यूपी में चुनाव अगले साल होंगे, इसलिए हर कोई यही सवाल पूछ रहा है कि विधानसभा चुनाव की बात से मेरी लड़ाई कमजोर होगी. 
 
 
‘देवी को ये अधिकार किसने दिया’
स्वाति सिंह ने कहा कि मैं एक बार मायावती से सबके सामने बैठकर कुछ सवालों के जवाब चाहती हूं. वह खुद को देवी और बहन जी बोलती हैं. मैं उसी देवी जी से पूछना चाहती हूं कि जिस देश में लड़कियों को देवी मानकर हमेशा पूजा जाता है. उनका अपमान करने का अधिकार आखिर उन्हें किसने दिया.
 
 
पहले से लगाए जा रहे थे कयास
स्वाति सिंह के कड़े रुख को देखकर पहले से ही इन बातों के कयास लगाए जा रहे थे कि उन्हें आगामी विधानसभा चुनाव में बीजेपी की ओर से टिकट मिल सकता है. स्वाति को बीजेपी महिला मोर्चा की अध्यक्ष बनाए जाने के बाद साफ हो गया है कि बीजेपी को स्वाति सिंह से फायदा मिलने की उम्मीद है.