नई दिल्ली. भारत की पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक की बात एक पाकिस्तान के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने भी कबूल ली है. उसने यह भी बताया कि स्ट्राइक में पांच पाकिस्तानी सैनिक मारे गए थे. एक निजी टीवी चैनल ने पाकिस्तान के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के खुलासे के बाद यह जानकारी दी है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
टीवी चैनल ने मीरपुर रेंज के पुलिस अधीक्षक (विशेष शाखा) गुलाम अकबर का स्टिंग किया था. पाकिस्तानी अधिकारी से उच्चाधिकारी बनने का नाटक कर जानकारी हासिल की गई. गुलाम अकबर रिकॉर्डिंग में यह कहते हुए सुनाई देते हैं कि 29 सितंबर की रात कई सेक्टरों में सर्जिकल स्ट्राइक हुई थी. 
 
पाकिस्तानी सेना को नहीं लगी भनक
रिपोर्टर ने पुलिस महानिरीक्षक मुश्ताक बनकर अकबर को फोन किया और उस रात हुए नुकसान की जानकारी मांगी थी. इसके बाद अकबर ने उस रात हुए हमले की पूरी कहानी बता डाली. उसने बताया कि उस रात भीमबेर के समाना, पुंछ के हाजिरा, नीलम के दूधनियाल और हथियान बाला के कायानी में हमले हुए थे. वहीं, भारतीय सेना की सर्जिकल स्ट्राइक के तुरंत बाद पाकिस्तानी सेना ने पूरे इलाके की घेराबंदी कर दी थी.
 
अकबर ने यह भी कहा कि पाकिस्तानी अधिकारियों को भारतीय हमले की भनक तक नहीं लगी और पांच सैनिक मारे गए. इसके बाद पाकिस्तानी सेना ने कई आतंकवादियों के शवों को जल्दी में वहां से हटाया. चैनल ने यह भी दावा किया है कि उसके पास मारे गए सैनिकों के नाम भी हैं.
 
हमले के समय की पुष्टि
पुलिस अ​धीक्षक ने यह भी बताया कि पाकिस्तानी सेना शवों को एंबुलेंस में डालकर ले गई और कई को गांव में ही दफन कर दिया गया. गुलाम अकबर ने सर्जिकल स्ट्राइक के समय की भी पुष्टि की. उन्होंने बातचीत में यह तक कहा कि वह रात का समय था. रात दो बजे से सुबह चार या पांच बजे तक हमला होता रहा था.
 
बता दें कि भारत ने 28 सितंबर की रात को एलओसी के पार सर्जिकल स्ट्राइक की थी. लेकिन, पाकिस्तान लगातार इस बात से इनकार कर रहा था. इस स्टिंग से पहले बुधवार को एक अंग्रेजी अखबार ने पाकिस्तान में चश्मदीदों से हमले की पुष्टि होने की खबर थी.