Home » National » सेना प्रमुख दलबीर सिंह क्यों बांधते हैं होंठों के नीचे स्ट्रिप, क्या जानते हैं आप?

सेना प्रमुख दलबीर सिंह क्यों बांधते हैं होंठों के नीचे स्ट्रिप, क्या जानते हैं आप?

सेना प्रमुख दलबीर सिंह क्यों बांधते हैं होंठों के नीचे स्ट्रिप, क्या जानते हैं आप?

By Web Desk | Updated: Sunday, October 2, 2016 - 10:22
indian army, general dalbir singh suhag, dablbir singh suhag, indian army chief, gorkha regiment, gorkha rifle, surgical strike

why indian army chief dalbir singh wear hat strip below his lips

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
नई दिल्ली. भारत की एलओसी के पार सर्जिकल स्ट्राइक के बाद भारतीय सेना की हिम्मत और काबिलियत की दाद दी जा रही है. लेकिन, सेना का साहस और ताकत ही नहीं बल्कि उनकी यूनिफॉर्म और अनुशासन भी लोगों को प्रभावित करते हैं. भारतीय सेना की विभिन्न रेजिमेंट की यूनिफॉर्म की विविधता लोगों के लिए आर्कषण का केंद्र बनती है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
सेना की ऐसी ही एक प्रमुख रेजिमेंट है, गोरखा रेजिमेंट. यह अपनी तेजी और अद्भुत घातक हमलों के लिए जानी जाती है. इस रेजिमेंट की एक खास बात यह है ​कि इसके सैनिक अपनी हैट की स्ट्रिप होंठ के नीचे पहनते हैं जबकि अन्य रेजिमेंट के जवान ये स्ट्रिप ठोड़ी के नीचे पहनते हैं. 
 
सेना प्रमुख जनरल दलबीर सिंह सुहाग को भी कई बार ऐसे ही हैट पहने देखा जा सकता है. उन्हें 16 जून 1974 को 'गोरखा राइफल' की चौथी बटालियन में कमीशन किया गया था. इस खास तरीके से हैट पहनने के विशेष कारण हैं, जो सेना के लिए फायदेमंद भी साबित होते हैं.
 
छोटा कद होना एक कारण
इसका पहला कारण है गोरखा रेजिमेंट के सैनिकों की लंबाई. दरअसल, पहाड़ी इलाकों से होने के कारण रेजिमेंट के सैनिकों की लंबाई सेना के अन्य जवानों से कम होती है. इसके पीछे आनुवांशिक कारण होने के चलते उन्हें भर्ती में भी इसकी छूट दी जाती है.
 
गोरखा रेजिमेंट के जवान लंबाई में अन्य सैनिकों के बराबर दिखें इसके लिए भी स्ट्रिप को होठों के नीचे पहना जाता है. इससे लंबाई थोड़ी ऊंची लगने लगती है. हालांकि, उनकी लंबाई का उनकी काबिलियत और दुश्मन को चित्त कर देने वाली क्षमता पर कोई असर नहीं पड़ता. 
 
दुश्मन को हमले की खबर न हो
इसका दूसरा कारण कुछ हास्यास्पद है. दरअसल, माना जाता था कि गोरखा रेजिमेंट के सैनिक ज्यादा बातें करते हैं. जंग के दौरान वे चिल्लाते हुए दुश्मन पर हमला करते थे, जिससे दुश्मन चौकन्ना हो जाता था. इसके समाधान के लिए कैप की स्ट्रिप की लंबाई को कम किया गया ताकि सैनिकों का मुंह बंद रहे और वे कम ​चिल्ला सकें.
 
हमले से बचने में मददगार
कैप की स्ट्रिप ठोड़ी के नीचे होने से पीछे से हमला होने पर ज्यादा नुकसान होने की संभावना जताई जाती है. दुश्मन टोपी पीछे खींचकर स्ट्रिप से सैनिक का गला घोंटने में कामयाब हो सकता है. अगर स्ट्रिप होंठ के नीचे हो तो पीछे से खींचने पर टोपी उतर जाती है और हमले का नुकसान कम होता है. कुछ लोग ये कहते हैं कि होठों के नीचे स्ट्रिप पहनने की परंपरा की शुरुआत अंग्रेजों के समय से हुई है. 
First Published | Sunday, October 2, 2016 - 10:14
For Hindi News Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
Web Title: why indian army chief dalbir singh wear hat strip below his lips
(Latest News in Hindi from inKhabar)
Disclaimer: India News Channel Ka India Tv Se Koi Sambandh Nahi Hai

Add new comment

CAPTCHA
This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

फोटो गैलरी

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सेना दिवस के अवसर पर भारतीय सेना में नवीन आविष्कारों के लिए प्रमाण पत्र भेंट करते हुए
  • जम्मू-कश्मीर के बारामूला में बर्फबारी का एक दृश्य
  • पटना में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव, एक दूसरे को मकर संक्राति की बधाई देते हुए
  • मुम्बई में, भित्ति कलाकार रूबल नागी की क्रिएशन का उद्द्घाटन करने पहुंचे अभिनेता शाहरुख़ खान
  • मुंबई में अभिनेत्री जूही चावला, पर्यावरण के प्रति प्लास्टिक के हानिकारक प्रभावों के बारे में बोलते हुए
  • अभिनेता अर्जुन रामपाल, नई दिल्ली के भारतीय जनता पार्टी कार्यालय में प्रेस वार्ता के दौरान
  • जुहू के इस्कॉन मंदिर में, दिवंगत अभिनेता ओम पुरी की पत्नी नंदिता पुरी और बेटा ईशान
  • कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी, नई दिल्ली में पार्टी के "जन वेदना सम्मेलन" के दौरान संबोधित करते हुए
  • चेन्नई में, आनेवाले पोंगल के लिए बर्तनों पर चित्रकारी में व्यस्त महिला
  • उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले, गाजियाबाद में फ्लैग मार्च करते सुरक्षा कर्मी
Pro Wrestling League India (PWL)