Home » National » सिंधु जल समझौते को तोड़ने के पक्ष में नहीं है मोदी सरकार: सूत्र

सिंधु जल समझौते को तोड़ने के पक्ष में नहीं है मोदी सरकार: सूत्र

सिंधु जल समझौते को तोड़ने के पक्ष में नहीं है मोदी सरकार: सूत्र

By Web Desk | Updated: Monday, September 26, 2016 - 18:50

sources says modi government does not want to break sindhu deal

नई दिल्ली. भारत-पाकिस्तान के बीच 1960 में हुए सिंधु जल समझौते की समीक्षा के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बैठक बुलाई थी. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मोदी सरकार सिंधु जल समझौते बरकरार रखेगी. सरकार इसे तोड़ने के पक्ष में नहीं है. अभी कुछ देर पहले बैठक खत्म हुई थी. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
इस बैठक में प्रधानमंत्री को आला-अधिकारियों ने इसके नुकसान और फायदों के बारे में बताया. इस बैठक में विदेश सचिव एस जयशंकर, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल पीएम के प्रिंसिपल सेक्रेटरी नृपेंद्र मिश्र शामिल हुए थे. 
 
 
रिपोर्ट्स के अनुसार सरकार इस नतीजे पर आई है कि सिंधु नदी पर भारत पॉवर प्रोजेक्ट बनाएगा. रिपोर्ट्स की मानें तो ऐसा कदम चीन की वजह से उठाया गया है क्योंकि बह्मपुत्र नदी चीन से होकर भारत आती है साथ ही सिंधु नदी भी चीन से होकर भारत आती है. 
 
 
अगर भारत सिंधु जल समझौते को रद्द करता है तो चीन भी भारत को पानी न दे. इसलिए सरकार सिंधु जल समझौते बरकरार रखेगी. बता दें कि भारत से गुजरने वाली सिंधु नदी का 80 फीसदी पानी पाकिस्तान को जाता है और करोड़ों लोगों की प्यास बुझाता है. 
 
 
क्या है सिंधु जल समझौता ?
सिंधु जल समझौता (Indus Water Treaty) 1960 में हुआ था. इस पर वर्तमान पीएम जवाहर लाल नेहरू और पाक पीएम अयूब खान ने दस्तखत किए थे. इस समझौते के तहत छह नदियों- झेलम, रावी, सिंधु, ब्यास, चेनाब और सतलज का पानी भारत और पाकिस्तान को मिलता है. पाकिस्तान हमेशा आरोप लगाता रहा है कि भारत उसे समझौते की शर्तों से कम पानी देता है. पाकिस्तान दो बार इंटरनेशनल ट्रिब्यूनल में शिकायत भी कर चुका है. 
 
 
सिंधु नदी संधि को विश्व के इतिहास का सबसे उदार जल बंटवारा माना जाता है. इस संधि के तहत पाकिस्तान को 80.52 प्रतिशत पानी यानी 167.2 अरब घन मीटर पानी सालाना दिया जाता है. 1960 में हुए सिंधु नदी संधि के तहत उत्तर और दक्षिण को बांटने वाली एक रेखा तय की गई है, जिसके तहत सिंधु क्षेत्र में आने वाली तीन नदियों का नियंत्रण भारत और तीन का पाकिस्तान को दिया गया है. 2011 में अमेरिकी सीनेट की फॉरेन रिलेशन कमेटी के लिए तैयार की गई रिपोर्ट में सिंधु जल संधि को दुनिया की सबसे सफल जल संधि बताया गया था.
First Published | Monday, September 26, 2016 - 17:45
For Hindi News Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
Web Title: sources says modi government does not want to break sindhu deal
(Latest News in Hindi from inKhabar)
Disclaimer: India News Channel Ka India Tv Se Koi Sambandh Nahi Hai

Add new comment

CAPTCHA
This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

फोटो गैलरी

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सेना दिवस के अवसर पर भारतीय सेना में नवीन आविष्कारों के लिए प्रमाण पत्र भेंट करते हुए
  • जम्मू-कश्मीर के बारामूला में बर्फबारी का एक दृश्य
  • पटना में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव, एक दूसरे को मकर संक्राति की बधाई देते हुए
  • मुम्बई में, भित्ति कलाकार रूबल नागी की क्रिएशन का उद्द्घाटन करने पहुंचे अभिनेता शाहरुख़ खान
  • मुंबई में अभिनेत्री जूही चावला, पर्यावरण के प्रति प्लास्टिक के हानिकारक प्रभावों के बारे में बोलते हुए
  • अभिनेता अर्जुन रामपाल, नई दिल्ली के भारतीय जनता पार्टी कार्यालय में प्रेस वार्ता के दौरान
  • जुहू के इस्कॉन मंदिर में, दिवंगत अभिनेता ओम पुरी की पत्नी नंदिता पुरी और बेटा ईशान
  • कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी, नई दिल्ली में पार्टी के "जन वेदना सम्मेलन" के दौरान संबोधित करते हुए
  • चेन्नई में, आनेवाले पोंगल के लिए बर्तनों पर चित्रकारी में व्यस्त महिला
  • उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले, गाजियाबाद में फ्लैग मार्च करते सुरक्षा कर्मी
Pro Wrestling League India (PWL)