नई दिल्ली. भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़ती तल्खी के बीच खबर है कि भारत सिंधू नदी की पानी के साथ-साथ रेल और बस सेवा भी बंद कर सकता है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
उरी में हुए आतंकी हमले के बाद भारत सरकार पहले से ही सिंधु नदी संधि को खत्म करने के मूड में है. इसी बीच यह भी कहा जा रहा है कि इसके साथ ही भारत-पाकिस्तान के बीच चलने वाली समझौता एक्स्प्रेस और थार एक्सप्रेस सेवा को बंद किया जा सकता है. साथ ही दिल्ली लाहौर बस सेवा भी बंद हो सकती है.
 
बता दें कि थार एक्सप्रेस 2006 में  शुरु हुई थी. वहीं समझौता एक्सप्रेस शिमला समझौता के तहत 22 जुलाई 1976 को शुरु हुई थी. यह ट्रेन दिल्ली से लाहौर के बीच चलती है.
 
 
सिंधु नदी संधि को विश्व के इतिहास का सबसे उदार जल बंटवारा माना जाता है. इस संधि के तहत पाकिस्तान को 80.52 प्रतिशत पानी यानी 167.2 अरब घन मीटर पानी सालाना दिया जाता है. 1960 में हुए सिंधु नदी संधि के तहत उत्तर और दक्षिण को बांटने वाली एक रेखा तय की गई है, जिसके तहत सिंधु क्षेत्र में आने वाली तीन नदियों का नियंत्रण भारत और तीन का पाकिस्तान को दिया गया है. 2011 में अमेरिकी सीनेट की फॉरेन रिलेशन कमेटी के लिए तैयार की गई रिपोर्ट में सिंधु जल संधि को दुनिया की सबसे सफल जल संधि बताया गया था.