Hindi national Centre Government, oppose, three times talaq, Supreme Court, Women, Rights, Gender Issue, All India Muslim Personal Law http://www.inkhabar.com/sites/inkhabar.com/files/field/image/Centre%20Government%2C%20oppose%2C%20three%20times%20talaq%2C%20supreme%20court%2C%20Women%2C%20Rights%2C%20Gender%20Issue.jpg

Exclusive: महिलाओं के हक के लिए SC में ट्रिपल तलाक का विरोध करेगी केंद्र सरकार

Exclusive: महिलाओं के हक के लिए SC में ट्रिपल तलाक का विरोध करेगी केंद्र सरकार

| Updated: Friday, September 23, 2016 - 21:54
Centre Government, oppose, three times talaq, supreme court, Women, Rights, Gender Issue, All India Muslim Personal Law

Central Government will oppose triple talaq in Supreme Court

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
Exclusive: महिलाओं के हक के लिए SC में ट्रिपल तलाक का विरोध करेगी केंद्र सरकारCentral Government will oppose triple talaq in Supreme CourtFriday, September 23, 2016 - 21:54+05:30
नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में ट्रिपल तलाक का विरोध करने का फैसला कर लिया है. केंद्र सरकार सुप्रीम कोर्ट में कहेगी कि ट्रिपल तलाक के जरिये महिलाओं के साथ लिंग के आधार पर भेदभाव किया जाता है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
सूत्रों को माने तो केंद्र सरकार सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर कर कहेगी की सरिया कानून के तहत ट्रिपल तलाक को धर्मनिरपेक्ष देश में गलत तरीके से रखा गया है. केंद्र सरकार ये भी कहेगी कि मुद्दे पर विचार यूनिफार्म सिविल कोड के तहत नहीं बल्कि लिंग के आधार पर भेदभाव के तौर पर किया गया है.
 
केंद्र सरकार ये भी कहेगी की 20 इस्लामिक देशों में जिसमें पाकिस्तान और बांग्लादेश भी शामिल है वहां भी वैवाहिक कानून में बदलाव किये गए हैं. 
 
इससे पहले तीन तलाक के मामले में ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल किया था. हलफनामे में बोर्ड ने कहा था कि पर्सनल लॉ को सामाजिक सुधार के नाम पर दोबारा से नहीं लिखा जा सकता और तलाक की वैधता सुप्रीम कोर्ट तय नहीं कर सकता है. 
 
पहले कई मामलों में सुप्रीम कोर्ट यह मामला तय कर चुका है. मुस्लिम पर्सनल लॉ कोई कानून नहीं है जिसे चुनौती दी जा सके, बल्कि यह कुरान से लिया गया है. यह इस्लाम धर्म से संबंधित सांस्कृतिक मुद्दा है.
 
बोर्ड ने हलफनामा में कहा था कि तलाक, शादी और देखरेख अलग-अलग धर्म में अलग-अलग हैं. एक धर्म के अधिकार को लेकर कोर्ट फैसला नहीं दे सकता. कुरान के मुताबिक तलाक अवांछनीय है लेकिन जरूरत पड़ने पर दिया जा सकता है. इस्लाम में यह पॉलिसी है कि अगर दंपती के बीच में संबंध खराब हो चुके हैं तो शादी को खत्म कर दिया जाए. तीन तलाक की इजाजत है क्योंकि पति सही निर्णय ले सकता है, वह जल्दबाजी में फैसला नहीं लेते. तीन तलाक तभी इस्तेमाल किया जाता है जब वैलिड ग्राउंड हो.
First Published | Friday, September 23, 2016 - 21:54
For Hindi News Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
Web Title: Central Government will oppose triple talaq in Supreme Court
(Latest News in Hindi from inKhabar)
Disclaimer: India News Channel Ka India Tv Se Koi Sambandh Nahi Hai

Add new comment

CAPTCHA
This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

फोटो गैलरी

  • उत्तराखंड के बद्रीनाथ मंदिर में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी
  • मुंबई के केलु रोड स्टेशन पर एक ट्रेन में सवार अभिनेता विवेक ओबेरॉय
  • मुंबई में अभिनेत्री सनी लियोन "ज़ी सिने पुरस्कार 2017" के दौरान प्रदर्शन करते हुए
  • सूफी गायक ममता जोशी, पटना में एक कार्यक्रम के दौरान प्रदर्शन करते हुए
  • लखनऊ में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बधाई देते प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी
  • मुंबई में आयोजित दीनानाथ मंगेसकर स्मारक पुरस्कार समारोह में अभिनेता आमिर खान
  • चेन्नई बंदरगाह पर भारतीय तटरक्षक बल आईसीजीएस शनाक का स्वागत
  • आगरा में ताजमहल देखने पहुंचे आयरलैंड के क्रिकेटर
  • अरुणाचल प्रदेश में सेला दर्रे पर भारी बर्फबारी का एक दृश्य
  • कोलकाता के ईडन गार्डन में वंचित बच्चों की मदद के लिए क्रिकेट खेलने पहुंचे पूर्व क्रिकेटर टीएमसी मंत्री लक्ष्मी रतन सुक्ला