श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर में आर्मी के ब्रिगेड हेडक्वार्टर पर हुए आतंकी हमले से भारतीय सेना में जबरदस्त गुस्सा है. सेना पाकिस्तान में छिपे आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब देने की बातें सामने आईं हैं. सेना ने अपने 20 जवानों का बदला लेने के लिए प्लान तैयार कर लिया है और इस बारे में सरकार से इजाजत लेने की प्रक्रिया आगे बढ़ाई जा रही है.
 
ख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
एक अखबार की खबर के मुताबिक उरी में हुए आतंकी हमले के बाद सेना अब पाकिस्तान से लग रही 778 किमी लंबी LOC पर अपनी ताकत और अधिक मजबूत करेगी. LOC पर भारतीय सेना की तैनाती बढ़ाने का फैसला पाकिस्तानी को भी नुकसान पहुंचाने की रणनीति का हिस्सा है.
 
 
इसके साथ ही भारतीय सेना ने अपनी ताकत दिखाने के लिए कई और मोर्चों पर तैयारी मजबूत की है साथ ही सेना केंद्र सरकार के सामने इन मांगों के साथ जल्द ही पहुंच सकती है.
 
 
भारतीय सेना LOC पर आधुनिक बंदूके, तोपों और अन्य ऑपरेशंस को मंजूरी देने की मांग कर सकती है साथ ही सरकार सीमा पार हमलों पर भी विचार करे. सरकार को पाकिस्तानी सीमा के भीतर सीमित, लेकिन कड़े हमले करने की इजाजत देने पर विचार करना चाहिए. पाकिस्तानी सेना पर जम्मू-कश्मीर में आतंकियों की घुसपैठ कराने में मदद की बात लगातार सामने आती रही है.
 
 
आर्मी बटालियनों और वेस्टर्न फ्रंट पर एयर फोर्स के एयरबेस को ‘फुल अलर्ट’ पर रखे जाने की तैयारी की जाए. सेना की ओर से पाकिस्तानी सीमा चौकियों पर मोर्टार दागने और हथियार भंडारों को टारगेट करना जैसी कार्रवाई की जा सकती है. सेना सरकार से पाकिस्तानी रेड लाइन को पार करने के विकल्प पर भी विचार कर रही है.
 
 
सेना ट्रांस-बॉर्डर ऑपरेशन चलाने और इन्फैंट्री यूनिट्स की ओर से की इजाजत भी मांग सकती है. वहीं स्मर्च रॉकेट्स की मौके पर तैनाती की मांग. इसके अलावा ब्रह्मोस मिसाइल के इस्तेमाल किए जाने की भी  इजाजत मांगी जाएगी.