श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर स्थित आर्मी हेडक्वॉर्टर पर हुए आतंकी हमले में 20 जवान शहीद हो गए हैं. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार शनिवार को पाकिस्तान से LOC पार करके 16 आतंकी घुसे थे. ये आतंकी चार-चार हिस्सों में घाटी में बंट गए है और इनमें से एक गुट ने उरी में हमला किया. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार घुसपैठिए आतंकियों का दूसरा गुट पुंछ की तरफ बड़े हमले के इरादे से गया है तो तीसरा गुट श्रीनगर की तरफ निकल गया है वहीं चौथे ग्रुप की तलाश जारी है. 
 
ख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
 
इस हमले के बाद सोशल मीडिया पर आम आदमी हो या फिर खास, दोनों तरह के लोगों ने पाकिस्तान पर जमकर गुस्सा निकाला है. वहीं बॉक्सर विजेंदर सिंह ने इस अपने ट्वीट में लिखा है कि 17 शहीदों के परिजनों को मेरी तरफ से संवेदना. यदि पाकिस्तान युद्ध चाहता है तो युद्ध हो जाने दो. वहीं उत्तर प्रदेश की राजधानी
 
 
गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने उरी आतंकी हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान पर जोरदार हमला बोलते हुए कहा कि पाकिस्तान एक आतंकवादी देश है और उसे हमेशा के लिए अलग-थलग किया जाना चाहिए. राजनाथ सिंह ने कड़े शब्दों में कहा कि उरी में आर्मी हेडक्वॉर्टर पर हुआ हमला करने वाले आतंकवादी बहुत प्रशिक्षित और हथियारों से लैस थे. उन्होंने साथ ही संकल्प जताया कि जो इस घटना के पीछे हैं उन्हें किसी भी कीमत पर नहीं छोड़ा जाएगा.
 
 
पाकिस्‍तान ने कश्‍मीर के उरी में हुए आतंकी हमले में अपना हाथ होने की खबरों को सिरे से खारिज कर दिया है. पाकिस्‍तान के विदेश विभाग के प्रवक्‍ता नफीस जकारिया ने कहा है कि बिना जांच किए इस मामले में उसका नाम घसीटा जाए. हालांकि जवाबी कार्रवाई में सैनिकों को मारे गए आतंकियों के पास से कई ऐसी चीजें बरामद की हैं जिन पर पाकिस्‍तान की मार्किंग है. उन्होंने कहा कि भारत हर बार बिना किसी जांच के तुरंत पाकिस्‍तान पर दोष मढ़ देता है.