Home » National » ऐसा कोई सखा नहीं, जिसको 'चखा' नहीं, अमर-कैंची

ऐसा कोई सखा नहीं, जिसको 'चखा' नहीं, अमर-कैंची

ऐसा कोई सखा नहीं, जिसको 'चखा' नहीं, अमर-कैंची

By Web Desk | Updated: Friday, September 16, 2016 - 00:44
Uttar Pradesh, Samajwadi Party, Amar Singh, Amitabh Bachchan, Jaya Bachchan, Ambani family, Ram Gopal Yadav

Is Amar Singh behind the feud between shivpal and akhilesh

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी में मची कलह के पीछे सासंद अमर सिंह का हाथ होने की बात कही जा रही है. कई कुनबे में फूट डालने वाले सांसद के नाम से मशहूर अमर सिंह का सीधे-सीधे नाम तो नहीं लिया जा रहा है लेकिन अखिलेश ने बुधवार को बातों ही बातों में अमर सिंह की तरफ इशारा किया था. अमर सिंह के बारे में बताया जाता है कि वो कई कुनबे में कलह डालने में माहिर हैं. अमिताभ बच्चन से लेकर अंबानी परिवार इसका उदाहरण है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बुधवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा था कि पार्टी में मौजूदा संकट के लिए परिवार से बाहर का कोई व्यक्ति जिम्मेदार है. बता दें कि चाचा शिवपाल के साथ भतीजे अखिलेश के विवाद ने काफी बड़ा रूप ले लिया है. मुलायम सिंह यादव के भाई शिवपाल यादव ने गुरुवार देर रात को अखिलेश सरकार में मंत्री पद के साथ-साथ पार्टी प्रदेश अध्यक्ष के पद से भी इस्तीफा दे दिया है. 
 
अमर की वापसी के खिलाफ थे अखिलेश
अखिलेश पार्टी में अमर सिंह की वापसी को लेकर कभी खुश नहीं थे. अमर सिंह की सपा में वापसी तो हो गई, उनके मनचाहे काम नहीं हो पा रहे थे. अखिलेश ने अमर सिंह को कभी हावी नहीं होने दिया. इसका दर्द कभी कभी राज्यसभा पद से इस्तीफे की धमकी तो कभी पार्टी छोड़ने की चेतावनी के रूप में बार-बार दिख रहा था. अमर सिंह मुलायम सिंह के काफी करीबी रहे हैं लेकिन शिवपाल से करीबी की वजह से छह साल बाद पार्टी में उनकी वापसी का रास्ता साफ हुआ था और राज्यसभा भी भेजे गए. अखिलेश की तरह रामगोपाल भी अमर सिंह की वापसी के खिलाफ थे. इसलिए इस मामले में गुरूवार को पहली बार मीडिया के सामने आए रामगोपाल के निशाने पर अमर सिंह ही रहे.
 
अंबानी कुनबे में डाली कलह
अमर सिंह खुद को धीरूभाई अंबानी का सबसे बड़ा दोस्त बताते थे, उनकी मौत के बाद अंबानी बंधुओं की आपसी रार में भी अमर सिंह शामिल रहे. पेट्रोलियम कारोबार के बंटवारे को लेकर चल रही रस्साकसी के दौरे में अमर सिंह मध्यस्थ की भूमिका में थे. वजह थी तत्कालीन केंद्र सरकार में पेट्रोलियम सचिव से बेहतर रिश्ते होना था. बाद में बवाल बढ़ने लगा तो सबसे पहले अमर सिंह अनिल अंबानी के पाले में खड़े हुए. अनिल अंबानी की मुलायम सिंह के साथ बैठक भी अमर ने कराई और समाजवादियों को बॉलिवुड के बाद कॉरपोरेट से भी जोड़ना इन्हीं का काम था. मुलायम सरकार में अनिल अंबानी ने दादरी और रोजा में पॉवर प्लांट की डील भी की. बाद में अनिल और मुकेश अंबानी ने अपने मतभेदों को कम कर कारोबार में समझौते की ओर कदम बढ़ाया तो सबसे पहले अमर सिंह पतली गली से निकल गए.
 
अमिताभ और अमर सिंह की बीच बढ़ी दूरियां
जब  अमिताभ बच्चन 90 के दशक में अपने करियर के सबसे बुरे दौर से गुजर रहे थे और उनकी कंपनी एबीसीएल दिवालिया हो चुकी थी तब अमर सिंह अमिताभ की जिंदगी में संजीवनी बनकर आए. इस बात को खुद अमर सिंह कहते हैं कि जब बड़े-बड़े कॉरपोरेट घरानों ने अमिताभ की मदद नहीं की थी तब मैनें उन्हें डूबने से बचाया था. मैंने ही सहारा ग्रुप के मालिक सुब्रत राय से अमिताभ की दोस्ती कराई. अमिताभ बच्चन का ग्लैमर सहाराश्री के काम आया और सहाराश्री का फाइनेंस अमिताभ के. इन दोनों के ही कद को कॉरपोरेट डीलर से सियासी लीडर बनने में अमर ने भुनाया. हालांकि जब 2010 में समाजवादी पार्टी से बगावत में जब बच्चन परिवार अमर सिंह के साथ खड़ी नहीं हुई तो ये यारी दुश्मनी में बदल गई. अमर को उम्मीद थी कि उनके साथ जया बच्चन भी समाजवादी पार्टी छोडेंगी लेकिन इसके उलट जया ने अमर को निशाने पर ले लिया. लिहाजा अमिताभ-जया अब अक्सर अमर के निशाने पर रहते हें.
First Published | Friday, September 16, 2016 - 00:25
For Hindi News Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
Web Title: Is Amar Singh behind the feud between shivpal and akhilesh
(Latest News in Hindi from inKhabar)
Disclaimer: India News Channel Ka India Tv Se Koi Sambandh Nahi Hai

Add new comment

CAPTCHA
This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

फोटो गैलरी

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सेना दिवस के अवसर पर भारतीय सेना में नवीन आविष्कारों के लिए प्रमाण पत्र भेंट करते हुए
  • जम्मू-कश्मीर के बारामूला में बर्फबारी का एक दृश्य
  • पटना में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव, एक दूसरे को मकर संक्राति की बधाई देते हुए
  • मुम्बई में, भित्ति कलाकार रूबल नागी की क्रिएशन का उद्द्घाटन करने पहुंचे अभिनेता शाहरुख़ खान
  • मुंबई में अभिनेत्री जूही चावला, पर्यावरण के प्रति प्लास्टिक के हानिकारक प्रभावों के बारे में बोलते हुए
  • अभिनेता अर्जुन रामपाल, नई दिल्ली के भारतीय जनता पार्टी कार्यालय में प्रेस वार्ता के दौरान
  • जुहू के इस्कॉन मंदिर में, दिवंगत अभिनेता ओम पुरी की पत्नी नंदिता पुरी और बेटा ईशान
  • कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी, नई दिल्ली में पार्टी के "जन वेदना सम्मेलन" के दौरान संबोधित करते हुए
  • चेन्नई में, आनेवाले पोंगल के लिए बर्तनों पर चित्रकारी में व्यस्त महिला
  • उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले, गाजियाबाद में फ्लैग मार्च करते सुरक्षा कर्मी
Pro Wrestling League India (PWL)