श्रीहरिकोटा. भारतीय स्पेस एजेंसी इसरो ने श्रीहरिकोटा से स्वदेश निर्मित रॉकेट की मदद से दो टन से अधिक वजनी अत्याधुनिक मौसम उपग्रह ‘INSAT-3DR’ का कामयाब लॉन्च किया. यह लॉन्च दोपहर करीब 4.50 बजे  GSLV श्रेणी के नवीनतम रॉकेट GSLV-F5 के जरिए मौसम उपग्रह को सतीश धवन स्पेस सेंटर के दूसरे लांच पैड से प्रक्षेपित किया गया.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
यह उपग्रह मौसम से जुड़े आंकड़े इकट्ठा करेगा. भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के लिए यह बहुत बड़ी कामयाबी है. इसरो ने कुछ दिनों पहले ही स्वदेशी स्क्रैमजेट इंजन के सफल परीक्षण किए जाने के बाद यह देश के लिए एक और उपलब्धि होगी. बता दें कि GSLV-F5 के प्रक्षेपण को ‘anomaly’ के चलते 40 मिनट के लिए स्थगित कर दिया गया था. 
 
इसरो ने बताया कि गुरुवार को लॉन्च हुए INSAT-3DR का वजन 2,211 किलो है. इसका कंट्रोल कर्नाटक के हासन स्थित इसरो सेंटर के पास होगा. इस उपग्रह को पृथ्वी के ऑर्बिट में पहुंचने में 17 मिनट का समय लगा. पहले इस उपग्रह को 28 अगस्त को स्पेस में भेजा जाना था, लेकिन टेक्निकल प्रॉब्लम आने के चलते इसमें देरी हो गई.
 
इस उपग्रह का लॉन्चिंग टाइम चार बजकर दस मिनट थी, लेकिन कुछ समस्याएं आ जाने के बाद इसको 4:50 बजे लॉन्च किया गया. INSAT-3DR की ऑपरेशन लाइफ आठ साल है. इस उपग्रह में इस तरह के आधुनिक उपकरण लगे हुए हैं जिससे मौसम को पैर्टन को समझा जा सकेगा और जमीनी स्तर पर सर्च और रेस्क्यू ऑपरेशन में मदद मिलेगी.