नई दिल्ली. नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बने दो साल हो गए हैं लेकिन उनकी लोकप्रियता में कोई कमी नहीं आई है. एक सर्वे के मुताबिक 70 फीसद लोग 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद उन्हें ही प्रधानमंत्री की कुर्सी पर देखना चाहते हैं. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
यह सर्वे न्यूज ऐप इनशॉर्ट और मार्केटिंग एजेंसी एलपीएसओएस की ओर से कराया गया है. जिसमें दावा किया गया है कि 70 फीसद लोग मोदी को दोबारा प्रधानमंत्री बनाना चाहते है. इनमें युवाओं की संख्या सबसे ज्यादा है. जबकि 62 फीसद लोग उनके अब तक के काम काज से संतुष्ट है. सर्वे में 57 फीसद लोगों ने बिहार की तर्ज पर कुछ राज्यों में शराबबंदी को लेकर वोट किया है.
 
वहीं बात करें प्रधानमंत्री के चुनावी वादों की तो 33 फीसद लोगों का मानना है कि 2014 के लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान किए वादे उन्होंने पूरे किए हैं. सर्वे में पूछा गया कॉलेज परिसरों में राजनीति को बैन किया जाना चाहिए तो 61 फीसद लोगों ने ‘हां’, 32 फीसद ने ‘नहीं’ और सात फीसद लोगों ने ‘कह नहीं सकते’ पर मतदान किया है. छात्रों से इस बारे में पूछा गया तो 54 फीसद ने ‘हां’ बैन किया जाना चाहिए, 37 फीसद ने ‘नहीं’ और 9 फीसद ने कहा ‘कह नहीं सकते’.  
 
जब सर्वे में लोगों से पिछले दो साल में दलितों और अल्पसंख्यक पर हुए हमलों के बारे में पूछा गया तो 33 फीसद लोगों ने बोला ‘हां’ ये सही है, उन पर हमले हो रहे हैं, 46 फीसद लोगों ने ‘नहीं’ बोला और 21 फीसद लोगो ने ‘कुछ कहा नहीं जा सकता’ पर वोट किया. महिलाओं से जब यही सवाल पूछा गया तो 33 फीसद महिलाओं ने कहा कि यह एक बड़ा मुद्दा है, जबकि 21 फीसद महिलाओं ने कहा कि ये कोई बड़ा मुद्दा नहीं हैं.