Hindi national जीएसटी, वस्तु एवं सेवा कर, केंद्र सरकार, भारत सरकार, शीतकालीन सत्र, बजट सत्र, बजट, GST, goods and services tax, Central Government, indian government, Winter session, budget session, budget http://www.inkhabar.com/sites/inkhabar.com/files/field/image/government-may-call-advance-winter-session-to-get-gst-laws-approved.jpg

जीएसटी के लिए तय समय से पहले हो सकता है शीतकालीन सत्र

जीएसटी के लिए तय समय से पहले हो सकता है शीतकालीन सत्र

    |
  • Updated
  • :
  • Monday, August 29, 2016 - 09:08
जीएसटी, वस्तु एवं सेवा कर, केंद्र सरकार, भारत सरकार, शीतकालीन सत्र, बजट सत्र, बजट, gst, goods and services tax, central government, indian government, winter session, budget session, budget

government may call advance winter session to get gst supporting laws approved

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
जीएसटी के लिए तय समय से पहले हो सकता है शीतकालीन सत्रgovernment may call advance winter session to get gst supporting laws approvedMonday, August 29, 2016 - 09:08+05:30

नई दिल्ली. केंद्र सरकार वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) को 1 अप्रैल से कार्यान्वित करने के अपने लक्ष्य को पाने के लिए शीतकालीन सत्र तय समय से एक पखवाड़ा पहले बुला सकती है. जीएसटी से जुड़े कई समर्थनकारी कानूनों को पारित करने के लिए ऐसा किया जा सकता है. इससे नए कर को लागू करने के लिए काफी समय मिल जाएगा.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
आमतौर पर संसद का शीतकालीन सत्र नवंबर के तीसरे या चौथे हफ्ते में शुरू होता है, लेकिन इस साल सरकार इसे त्योहारों का सीजन खत्म होने के तुरंत बाद बुलाना चाहती है. 
 
एक सरकारी अधिकारी के अनुसार, शीतकालीन सत्र के थोड़ा पहले शुरू होने से केंद्रीय जीएसटी (सीजीएसटी) और एकीकृत जीएसटी (आईजीएसटी) विधेयकों को नवंबर या दिसंबर के शुरू में पारित करवाया जा सकेगा. इन विधेयकों के पारित होने से जीएसटी का कार्यान्वयन आगे बढ़ेगा.
 
बता दें कि ये दोनों विधयेक उस संविधान संशोधन विधेयक के समर्थन में हैं, जिन्हें संसद के मानसून सत्र में पारित किया गया था. इसे कानून बनाने के लिए 31 में से आधे राज्यों की मंजूरी जरूरी है. अब तक इस संविधान संशोधन विधेयक को असम, बिहार, छत्तीसगढ़, झारखंड, हिमाचल प्रदेश, गुजरात, दिल्ली व मध्य प्रदेश सहित आठ राज्य विधानसभाएं मंजूरी दे चुकी हैं. 
 
अधिकारी के मुताबिक महाराष्ट्र व हरियाणा में संविधान संशोधन विधेयक के जल्द ही मंजूर होने की उम्मीद है. इसके साथ ही विधेयक को कानून बनाने के लिए जरूरी आंकड़ा सितंबर तक प्राप्त हो सकता है.
 
सरकार का मानना है शीतकालीन सत्र पहले बुलाने का फायदा इसलिए भी है क्योंकि बजट सत्र को भी तय समय से पहले जनवरी में बुलाने की संभावना है. ऐसे में बजट सत्र के लिए भी पर्याप्त समय मिल जाएगा.

First Published | Monday, August 29, 2016 - 09:01
For Hindi News Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
(Latest News in Hindi from inKhabar)
Disclaimer: India News Channel Ka India Tv Se Koi Sambandh Nahi Hai

Add new comment

CAPTCHA
This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.