श्रीनगर. कश्मीर में व्यापत तनाव का जायजा लेने गए देश के गृहमंत्री राजनाथ सिंह और राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने एक प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित किया. इस दौरान महबूबा मुफ्ती ने कहा कि घाटी के 95 फीसदी लोग अमन-चैन पसंद है और वो किसी भी प्रकार की हिंसा का समर्थन नहीं करते हैं. साथ ही राजनाथ सिंह के भी कहा कि यहां के लोग शांति चाहते हैं. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बता दें कि राजनाथ सिंह जम्मू-कश्मीर के हालात का जायजा लेने और वहां के लोगों से राय जानने के लिए दो दिन के कश्मीर दौरे पर हैं, आज वहां उनका दूसरा दिन है. राजनाथ सिंह ने बताया कि अपने इस दौरे में 20 से ज्यादा प्रतिनिधिमंड़लों से मुलाकात की. 300 से ज्यादा लोगों से वार्ता की. सभी लोग घाटी में अमन-चैन और भाइचारे का माहौल चाहते हैं. राजनाथ सिंह ने कहा कि, कुछ आसामाजिक तत्व है जो राज्य के युवाओं को गुमराह कर रहे हैं, उनकी पहचान कर ली गई है. 
 
प्रेस वार्ता में राजनाथ सिंह ने कहा कि कश्मीर के बिना भारत का भविष्य संभव नहीं है. अलगावविदयों से मुलाकात के मुद्दे पर राजनाथ सिंह ने कहा कि, इंसानियत, कश्मीरियत और जम्हूरत के दायरे में हम किसी से भी बातचीत करने को तैयार हैं. राजनाथ सिंह ने कहा कि अगर घाटी में हालात नहीं सुधरते हैं तो हमें दूसरे विकल्पों पर विचार करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा. 
 
इससे पहले आज सुबह कई राजनीतिक पार्टियों के नुमाइंदों और सिविल सोसायटी के लोगों ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की.