मुंबई. पूरे देश में जन्माष्टमी की धूम मची है. हर जगह अपने अपने तरीके से इस त्योहार को मनाया जा रहा है. वहीं जन्माष्टमी के मौके पर महाराष्ट्र में मनाई जाने वाली दही-हांडी उत्सव की धूमधाम से शुरुआत हो चुकी है. सुप्रीम कोर्ट ने दही-हांडी उत्सव में मानव पिरामिड की ऊंचाई 20 फीट से अधिक नहीं होने का आदेश दिया था. लोगों में इस आदेश से नाराजगी है. 
 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 

मुंबई के दादर में कोर्ट के इस आदेश को तोड़ने के लिए गोविंदा सीढ़ियों का प्रयोग कर रहे हैं.

यही नहीं विरोध जाहिर करने के लिए गोविंदाओं ने जमीन में लेटकर 20 फीट से लंबी मानव पिरामिड भी बनाया. साथ ही कहीं काला कपड़ा दिखाकर भी विरोध जताया जा रहा है.

 
बता दें कि महाराष्ट्र में जन्माष्टमी के दिन दही हांडी उत्सव के दौरान मानव पिरामिड बनाए जाते हैं. ​इस पिरामिड में शामिल होने वालों को गोविंदा कहा जाता है. 
 
 
कल ही सुप्रीम कोर्ट ने मानव पिरामिड की अधिकतम ऊंचाई 20 फीट से अधिक नहीं होने के बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले को सही करार दिया था. साथ ही इस साल गोविंदाओं की उम्र 18 साल से कम नहीं होनी चाहिए का आदेश बॉम्बे हाईकोर्ट ने दिया था.