नई दिल्ली. आतंकी बुरहान वानी के एनकाउंटर के बाद से बिगड़े कश्मीर के हालात को काबू में करने के लिए बुधवार को गृहमंत्री राजनाथ सिंह घाटी जाएंगे, वहीं इससे पहले घाटी में 11 साल बाद बीएसएफ जवानों की तैनाती कर दी गई है. केंद्र की ओर से 2600 जवान सुलगते कश्मीर को शांत करने पहुंचे हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
सूत्रों के अनुसार, राजनाथ सिंह कश्मीर के लिए बुधवार को दिल्ली से रवाना होंगे. उनका यह कश्मीर दौरा दो दिनों का होगा. बताया जाता है कि राजनाथ सिंह वहां जाकर प्रशासनिक अधिकारियों और राजनेताओं से कश्मीर में उपजी हिंसा को लेकर बातचीत करेंगे.
 
घाटी में बीएसएफ की 26 कंपनियों को राज्य के समस्याग्रस्त इलाकों में कानून व्यवस्था बनाने के लिए भेजा जा रहा है. इन बलों को गुजरात, राजस्थान और पश्चिम बंगाल से लिया गया है. इसके अतिरिक्त अमरनाथ यात्रा की ड्यूटी से हटाए जाने के बाद बल की 30 अतिरिक्त कंपनियों को भी अगले कुछ दिन में राज्य में भेजे जाने की संभावना है.
 
दूसरी ओर, अलगाववादियों ने घाटी में अपने विरोध प्रदर्शन और बंद को 25 अगस्त तक बढ़ा दिया है. लिहाजा, इलाके के सभी स्कूल-कॉलेज, बाजार, सार्वजनिक परिवहन और दूसरे व्यापार बंद हैं. पुराने श्रीनगर और अनंतनाग में कर्फ्यू जारी है, जबकि कुलगाम, शोपियां, पुलवामा, बारामूला, बांदीपुरा, कुपवाड़ा और बडगाम में भी पाबंदी लगाई गई है. कश्मीर हिंसा में अब तक 70 लोगों की मौत हो चुकी है.