जम्मू. केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने जम्मू कश्मीर के लिए विवाद के लिए देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु को जिम्मेदार ठहराया है. रविवार को जम्मू के बाहरी क्षेत्र में आयोजित ‘याद करो कुर्बानी’ रैली के दौरान जितेंद्र सिंह ने कहा कि जम्मू-कश्मीर का विवाद नेहरू की राजनीतिक असफलताओं का परिणाम है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बता दें कि इससे पहले वित्तमंत्री अरुण जेटली भी जम्मू-कश्मीर के नेहरुवादी मॉडल की आलोचना कर चुके हैं. रैली के दौरान अपने संबोधन में जितेन्द्र सिंह ने कहा कि शनिवार को केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने अर्थव्यवस्था के असफल नेहरूवादी मॉडल की बात की थी और आज मैं कहता हूं कि अगर आप नेहरू के असफल मॉडल को देखना चाहते हैं, तो जम्मू कश्मीर उसका ही एक उदाहरण है. 
 
जितेन्द्र सिंह ने कहा कि जम्मू कश्मीर का क्षेत्र महाराजा हरी सिंह के अधीन था, जिसका कुल क्षेत्रफल 2.25 लाख वर्ग किलोमीटर था, लेकिन हमारे पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के असफल मॉडल के चलते ही भारत को सिर्फ एक लाख वर्ग किलोमीटर का क्षेत्र मिल सका. बाकी का सारा हिस्सा पाकिस्तान के हिस्से में आ गया, जिसमें गिलगिट, बाल्टीस्तान और पीओके हैं.