दिल्ली. पतंग उड़ाने वालों के लिए यह बुरी खबर हो सकती है. लोगों के लिए जानलेवा बन चुके चाइनीज मांझे पर दिल्ली सरकार ने राजधानी में प्रतिबंध लगा दिया है. चाइनीज मांझे से हाल ही में एक बच्ची सहित दो लोगों की मौत और अन्य हादसों के बाद यह फैसला लिया गया.

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर

यह निर्णय स्वतंत्रता दिवस के एक दिन बाद आया जब देशभर में आजादी के जश्न के तौर पर बड़ी संख्या में पतंगें उड़ाई जाती हैं. चाइनीज मांझे पर कांच या धातु की परत होने के कारण यह बहुत धारधार हो जाता है. इस मांझे को लेकर काफी समय से विवाद भी चल रहा था. दिल्ली हाइकोर्ट ने चाइनीज मांझे पर प्रतिबंध को लेकर दिल्ली सरकार से जवाब भी मांगा था.

सोमवार को पतंग के मांझे से एक 19 साल के नौजवान की मौत भी हो गई थी. वह द्वारका से अपनी बहन के घर से लौट रहा था. रास्ते में एक एलिवेटड रोड से उतरते ही उसका गला पतंग के मांझे में फंस गया और वह गिर गया. इस दौरान उसका सिर डिवाइडर से टकराया, जिससे उसे गंभीर चोटें आईं जिससे उसकी मौत हो गई. 

एक अन्य हादसे में 15 अगस्त की शाम को नरायणा से फिल्म देखकर अपने परिवार के साथ लौट रही एक तीन साल की बच्ची सांची गोयल की भी मौत हो गई. बच्ची ने अपना सिर कार की खिड़की से बाहर निकाला, तो उसकी गर्दन एक मांझे में फंस गई. इस हादसे में उसकी गर्दन कट गई.

पशुओं के अधिकारों के लिए काम करने वाली संस्था पेटा ने भी पिछले हफ्ते नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल में स्वतंत्रता दिवस पर चाइनीज मांझे के उपयोग पर तुरंत प्रतिबंध के लिए याचिका दायर की थी. संगठन का कहना है कि इस मांझे के कारण प​क्षियों, जानवरों और लोगों को गंभीर चोटें आ जाती हैं और यहां तक उनकी जान भी चली जाती है.