अहमदाबाद. स्वामी नारायण समुदाया के प्रमुख स्वामी महाराज शांतिलाल पटेल के अंतिम दर्शन करने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को गुजरात के सारंगपुर जाएंगे. प्रमुख स्वामी का पार्थिव शरीर सारंगपुर के एक मंदिक में रखा हुआ है. 85 वर्षीय संत को अंतिम सम्मान देने के लिए मंत्रियों, राजनीतिज्ञयों और श्रद्धालुओं का तांता लगा हुआ है. बता दें कि स्वामी जी का निधन शनिवार को हुआ था.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
गुजरात के नए मुख्यमंत्री विजय रुपाणी और उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल समेत कई नेताओं ने रविवार को दर्शन किए और व्यवस्थाओं का जायजा लिया. रुपाणी ने बताया कि स्वामी जी के अंतिम दर्शन के लिए लाखों भक्त यहां आने वाले हैं इसलिए 5 आईपीएस को व्यवस्थाओं के लिए नियुक्त किया है. बता दें कि 17 अगस्त को प्रमुख स्वामी का अंतिम संस्कार होगा.
 
 
स्वामी जी का सफर
स्वामी जी का जन्म 7 दिसम्बर 1921 को गुजरात के वडोदरा जिले के चाणसद गांव में हुआ था. उन्होंने युवावस्था में ही आध्यात्म को गले लगा लिया था. स्वामी जी ने 10 जनवरी 1940 को नारायणस्वरूपदासजी के रूप में अपना आध्यात्मिक सफर शुरू किया. स्वामी जी ने देश-विदेशों में अपने जीवनकाल में करीब 713 मंदिरों का निर्माण करवाया. इन्हीं में से एक मंदिर अमेरिका के न्यूजर्सी में बन रहा है जिसे हिन्दुओं का सबसे बड़ा मंदिर बताया जा रहा है. 162 एकड़ में बन रहे इस मंदिर का निर्माण 2017 में पूरा होगा.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
PM मोदी ने शोक व्यक्त की
स्वामी जी के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी शोक व्यक्त किया. उन्होंने ट्वीट किया, ‘प्रमुख स्वामी महाराज मेरे गुरु थे. उनके साथ हुई बातचीत और मुलाकात को मैं कभी नहीं भूल सकता. मुझे उनकी कमी हमेशा खलेगी.’